Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 73035
Date of publication : 15/4/2015 17:35
Hit : 361

सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव पर अंसारूल्लाह की प्रतिक्रिया

अंसारूल्लाह जनांदोलन के एक वरिष्ठ नेता अली अलबखीती ने एक बयान में यमन के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रस्ताव को ज़ालिमाना बताते हुए कहा है कि इस तरह के प्रस्तावों से यमन की जनता के एरादे पस्त नहीं हो सकते और वह अपने रुख से पीछे नहीं हटेंगे


विलायत पोर्टलः प्रपात रिपोर्ट के अनुसार यमन के अंसारूल्लाह जनांदोलन के एक वरिष्ठ नेता अली अलबखीती ने एक बयान में यमन के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रस्ताव को ज़ालिमाना बताते हुए कहा है कि इस तरह के प्रस्तावों से यमन की जनता के एरादे पस्त नहीं हो सकते और वह अपने रुख से पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने कहा कि यमन की जनता को विदेशों से हथियारों की आपूर्ति की आवश्यकता नहीं है इसलिए सुरक्षा परिषद के इस प्रकार के निर्णयों से यमन के जनांदोलन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि यमन की जनता को उनकी क्रांति के रास्ते से हटाया नहीं जा सकता है। अलबखीती ने अलमयादीन टीवी चैनल से बातचीत में कहा चूंकि यमनी जनता के खिलाफ इस संकल्प से कोई फर्क नहीं पड़ेगा इसलिए इस संबंध में कोई खास प्रतिक्रिया व्यक्त किए जाने की कोई जरूरत नहीं है। अलमयादीन टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने इस प्रस्ताव में सदस्य देशों से मांग की गई है कि वह यमन जाने वाले जहाजों की तलाशी लें। इस प्रस्ताव में, जो फार्स खाड़ी सहयोग परिषद के सदस्य देशों की ओर से पेश किया गया, यमन के जनांदोलन अंसारूल्लाह के प्रमुख और इसी तरह यमन के पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह के बड़े बेटे पर प्रतिबंध की घोषणा करते हुए उनके विदेशी दौरों पर प्रतिबंध लगाए जाने की घोषणा की गई है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची