Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 72444
Date of publication : 7/4/2015 17:4
Hit : 357

तेल अवीव के उत्तेजित होने का कारण उसका अवैध वुजूद।

ईरान की शासन प्रणाली के हितों की पहचान करने वाली परिषद के अध्यक्ष का कहना है कि चूंकि इस्राईली हुकूमत का अस्तित्व अवैध है इसी कारण वह परमाणु वार्ता का विरोध कर रही है।


विलायत पोर्टलः ईरान की शासन प्रणाली के हितों की पहचान करने वाली परिषद के अध्यक्ष का कहना है कि चूंकि इस्राईली हुकूमत का अस्तित्व अवैध है इसी कारण वह परमाणु वार्ता का विरोध कर रही है। आयतुल्लाह हाशमी रफसंजानी ने कहा है कि इस्राईली हुकूमत परमाणु वार्ता का विरोध करके वैधता प्राप्त करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के कुछ देशों की ओर से परमाणु वार्ता का विरोध, उनकी गलत पहचान और अनुमान का परिणाम है। उन्होंने कहा कि ईरान हमेशा से मुसलमानों की पनाहगाह है और ईरान के सभी पक्ष, इस्लाम पर आधारित हैं। ईरान की शासन प्रणाली के हितों की पहचान करने वाली परिषद के प्रमुख आयतुल्लाह रफसंजानी ने जिनेवा वार्ता और लोज़ान के साझा बयान की ओर इशारा करते हुए कहा कि संभवतः कुछ देशों ने अपने आंतरिक समस्याओं के मद्देनजर लोज़ान बयान की व्याख्या करते हुए अगले तीन महीनों में होने वाले अंतिम समझौते के संबंध में कुछ संदेह पैदा किए हैं लेकिन विश्व जनमत जान चुका है कि अब तक जो ईरान के बारे में कहा जाता था वह झूठ और राजनीतिक लक्ष्य के लिए था और उसका स्रोत कपट व कीना था।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....