Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 72377
Date of publication : 6/4/2015 17:35
Hit : 464

सऊदी अरब क्षेत्र में एक कैंसर का फोड़ा।

ईरान के ईलाम शहर के इमामे जुमा और सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि आयतुल्लाह मोहम्मद नक़ी लुत्फ़ी ने लोगों के जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा है कि आले सऊद सरकार इस्राईल की तरह एक कैंसर का फोड़ा है जिसने सीरिया, इराक, लेबनान, ग़ज़्जा और यमन में मुसलमानों के नरसंहार का बाजार गर्म कर रखा है।


विलायत पोर्टलः ईरान के ईलाम शहर के इमामे जुमा और सुप्रीम लीडर के प्रतिनिधि आयतुल्लाह मोहम्मद नक़ी लुत्फ़ी ने लोगों के जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा है कि आले सऊद सरकार इस्राईल की तरह एक कैंसर का फोड़ा है जिसने सीरिया, इराक, लेबनान, ग़ज़्जा और यमन में मुसलमानों के नरसंहार का बाजार गर्म कर रखा है।

उन्होंने कहा कि सऊदी अरब के विमानों की यमनी जनता पर बर्बर बमबारी ने ग़ज़्जा में बच्चों पर इस्राईल की बमबारी की याद ताजा कर दी है।

उन्होंने कहा कि यमन में आले सऊद के इन बर्बर हमलों ने दुनिया पर स्पष्ट कर दिया है कि यह सरकार अमेरिका और इस्राईल की कठपुतली है।

ईरान और छह विश्व शक्तियों के बीच ईरान के परमाणु मुद्दे पर वार्ता की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि ईरानी वार्ता टीम ने वार्ता में ईरानी राष्ट्र के अधिकार और इस्लामी व्यवस्था का भरपूर बचाव किया है।

मशहद में इस्लामी क्रांति के सुप्रीम लीडर हज़रत आयतुल्लाहिल उज़मा ख़ामेनई के बयान का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि ईरानी राष्ट्र अमेरिका और उसके सहयोगियों की दृढ़ता और आर्थिक प्रतिबंधों सेके आगे पराजित नहीं हुई और ईरान के परमाणु मसले पर समझौता अमेरिका और उसके सहयोगियों की मजबूरी है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....