Thursday - 2018 Oct 18
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 72054
Date of publication : 31/3/2015 23:36
Hit : 462

इस्माईल हनीया:

फिलिस्तीन का चप्पा चप्पा इस्राईल के चंगुल से मुक्त कराएंगे।

ग़ज़्ज़ा पट्टी में आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए इस्लामी आंदोलन हमास के राजनीतिक क्षेत्र के उपाध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री इस्माईल हनीया ने कहा है कि उनकी पार्टी पूरे फिलिस्तीन को इस्राईल से मुक्ति पर यक़ीन रखते हुए फिलिस्तीन की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रही है। केवल ग़ज्जा पट्टी को फिलिस्तीनी राज्य बनाने या फिलिस्तीन विभाजित करने की किसी साजिश को सफल नहीं होने देंगे।


विलायत पोर्टलः ग़ज़्ज़ा पट्टी में आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए इस्लामी आंदोलन हमास के राजनीतिक क्षेत्र के उपाध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री इस्माईल हनीया ने कहा है कि उनकी पार्टी पूरे फिलिस्तीन को इस्राईल से मुक्ति पर यक़ीन रखते हुए फिलिस्तीन की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रही है। केवल ग़ज्जा पट्टी को फिलिस्तीनी राज्य बनाने या फिलिस्तीन विभाजित करने की किसी साजिश को सफल नहीं होने देंगे।

उन्होंने कहा कि यह कहा जा रहा है कि मानो हमास ग़ज्जा पट्टी को अलग से एक राज्य बनाने का इच्छुक है। यह धारणा बिल्कुल निराधार है। हमास पूरे फिलिस्तीन को ग़ासिब दुश्मन के कब्जे से मुक्ति के लिए संघर्ष कर रही है।

 “पुराने राष्ट्रीय सिद्धांतों पर अमल” के शीर्षक से आयोजित सम्मेलन के बारे में इस्माईल हनीया ने कहा कि ग़ज़्जा पट्टी को फिलिस्तीन से अलग करके एक राज्य बनाने का मतलब प्यारे वतन को बांटना होगा। हमास ऐसे किसी सिद्धांत के बारे में सोच भी नहीं सकता। हम तो पूरे फ़िलिस्तीन की स्वतंत्रता के लिए प्रयास कर रहे हैं। हमारा संघर्ष तब तक जारी रहेगा जब तक फिलिस्तीन का चप्पा चप्पा ज़ायोनी दुश्मन के चंगुल से मुक्त नहीं हो जाता।

उन्होंने कहा कि फिलिस्तीनियों की कुर्बानियां जल्द रंग लाईं जाएगी और वह समय दूर नहीं जब दुश्मन को पराजित होकर फिलिस्तीन से भागना पड़ेगा।

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि हमास के बारे में इस्राईली मीडिया में तरह-तरह की अफवाहें फैलाई जाती हैं। एक अफवाह फैलाई गई कि हमास ने इस्राईल के खिलाफ सशस्त्र संघर्ष छोड़ने और ज़ायोनी शासन की शर्तों के अनुसार ग़ज़्जा पट्टी में संघर्ष विराम का फैसला स्वीकार करने का संकेत दिया है। यह धारणा भी बिल्कुल निराधार है। मैं यह स्पष्ट कर रहा हूं कि हमास फिलिस्तीन की स्वतंत्रता के लिए सशस्त्र संघर्ष जारी रखेगी। ग़ज्जा के अलावा पश्चिमी तट और अन्य क्षेत्रों में भी प्रतिरोध गतिविधियां बहाल की जाएंगी।

उन्होंने कहा कि फ़लस्तीनी राष्ट्र का प्रतिरोध आंदोलन ही वह किला है जिसने हमें दुश्मन के चंगुल से बचा रखा है। इसे हम कैसे छोड़ सकते हैं। प्रतिरोध ही के माध्यम से हम दुश्मन को न केवल अंतिम और निर्णायक हार से दोचार करेंगे बल्कि फ़िलिस्तीन की स्वतंत्रता का मार्ग भी प्रशस्त होगा।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :