Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 71988
Date of publication : 29/3/2015 22:48
Hit : 298

यमन संकट

सऊदी आक्रामकता के परिणाम खतरनाक होंगे।

संयुक्त राष्ट्र में मानवीय सहायता गतिविधियों के कोऑर्डिनेटर यूहांस वान दर क्लाव ने कहा है कि यमन में सऊदी आक्रामकता से दसियों लाख लोगों को जिन्हें सहायता की जरूरत है मदद नहीं पहुँच पाएगी।


विलायत पोर्टलः संयुक्त राष्ट्र में मानवीय सहायता गतिविधियों के कोऑर्डिनेटर यूहांस वान दर क्लाव ने कहा है कि यमन में सऊदी आक्रामकता से दसियों लाख लोगों को जिन्हें सहायता की जरूरत है मदद नहीं पहुँच पाएगी। यूहांस ने एक बयान में कहा है कि यमन की जनता को इस समय इंसान दोस्ताना सहायता की गंभीर आवश्यकता है और यमन की जनता को इस वर्ष में सहायता पहुंचाने के लिए 747 मिलियन डॉलर से अधिक पूंजी की आवश्यकता है।

यमन में संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधि ने कहा है कि पिछले साल हिंसा में वृद्धि हुई है और इससे स्कूलों, चिकित्सा केन्द्र और मस्जिदें तथा दूसरी महत्वपूर्ण चीज़ें नष्ट हुई हैं यूहांस ने कहा कि यमन में पिछले साल से जारी अशांति में लगभग एक लाख से अधिक लोग बेघर हुये हैं।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इराक सेना अलर्ट पर किसी भी समय सीरिया में छेड़ सकती है सैन्य अभियान । इराक के प्राचीन धरोहर चुरा रही है ब्रिटिश एजेंसी आईएसआईएस से जान बचाकर भाग रहे लोगों पर अमेरिका की भीषण बमबारी, 20 की मौत । अरब लीग से सीरिया का निष्कासन ऐतिहासिक भूल थी : इराक अमेरिका में गहराता संकट, खाने के लिए लंगर की लाइन में लगे हैं सरकारी कर्मचारी । सऊदी दान रंग लाया, पाकिस्तान ने राहील शरीफ को सऊदी गठबंधन के नेतृत्व करने को दी मंज़ूरी । अमेरिका ने मर्ज़िया हाशिमी की असंवैधानिक गिरफ़्तारी की पुष्टि की हश्दुश शअबी का आरोप , आईएसआईएस को इराकी बलों की गोपनीय जानकारी पहुंचाता था अमेरिका ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना ।