Sunday - 2018 May 27
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 71823
Date of publication : 21/3/2015 13:18
Hit : 370

नौरोज़ पर आयतुल्लाह ख़ामेनई का ईरानी राष्ट्र के नाम संदेश।

आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनेई ने नये सौर वर्ष 1394 को सरकार व राष्ट्र, समन्वय व एकजुटता का नाम दिया है।


विलायत पोर्टलः आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनेई ने नये सौर वर्ष 1394 को सरकार व राष्ट्र, समन्वय व एकजुटता का नाम दिया है। सुप्रीम लीडर ने शनिवार को नए ईरानी साल की शुरूआत पर अपने संदेश में कहा कि इस बार नया साल ऐसी स्थिति में मनाया जा रहा है कि पैग़म्बरे इस्लाम स.अ की बेटी हज़रत फ़ातिमा ज़हरा की शहादत के दिन यानि अय्यामे फ़ातेमी चल रहे हैं।
उन्होंने कहा कि पैग़म्बरे इस्लाम स.अ और उनकी बेटी के प्रति ईरानी जनता की निष्ठा के मद्देनज़र कुछ बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए और निश्चित रूप से ऐसा ही किया जाएगा। आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनेई ने उम्मीद जताई की है कि नया साल, हज़रत फ़ातिमा ज़हरा की बरकतों व अनुकंपाओं से भरपूर और सुसज्जित होगा।
इस्लामी इंक़ेलाब के सुप्रीम लीडर ने अपने संदेश में पिछले साल ईरानी राष्ट्र को मिलने वाली कामयाबियों का उल्लेख करते हुए कहा कि पिछला साल, ईरानी राष्ट्र के लिए राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर कामयाबियों और चुनौतियों से भरा साल था इसीलिए इसका नाम राष्ट्रीय संकल्प एवं जेहादी प्रबंधन रखा गया था। सुप्रीम लीडर ने अपने संदेश में कहा है कि ईरानी राष्ट्र ने समस्याओं के मुक़ाबले में अपने संकल्प का प्रदर्शन क़ुद्स की रैलियों और इमाम हुसैन के चेहलुम के अवसर पर स्पष्ट रूप में किया है।
उन्होंने कहा कि हालांकि पिछले साल जेहादी प्रबंधन के प्रभाव स्पष्ट रूप से देखे गए लेकिन यह शीर्षक केवल पिछले साल से विशेष नहीं है और नए साल में भी जीवन के हर क्षेत्र में इसकी आवश्यकता है बल्कि हमेशा के लिये है। इस्लामी इंक़ेलाब के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनेई ने कहा कि नए साल में ईरानी राष्ट्र की कुछ महान कामनाए हैं जैसे आर्थिक प्रगति, क्षेत्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय संप्रभुता, वैज्ञानिक क्षेत्र में वास्तविक प्रगति, न्याय एवं ईमान और आध्यात्म की प्राप्ति आदि।
उन्होंने कहा कि ईरानी राष्ट्र में पाई जाने वाली उच्च क्षमताओं के दृष्टिगत इन कामनाओं की पूर्ति संभव है लेकिंन इसकी मुख्य शर्त, सरकार और राष्ट्र के बीच समन्वय है। आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनेई ने नए साल को, सरकार व राष्ट्र, समन्वय व एकजुटता का नाम देते हुये कहा कि सरकार और राष्ट्र के बीच जितना गहरा समन्वय और सामंजस्य पाया जाएगा उसी अनुपात में काम भी उचित ढंग से होंगे। इस्लामी इंक़ेलाब के सुप्रीम लीडर ने उमीद जताई की है कि ईरानी राष्ट्र और सरकार दोनो ही नए साल को दिये जाने वाले नाम के आधार पर वास्तविक रूप में काम करेंगे ताकि उसके नतीजों को देखा जा सके।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :