Thursday - 2018 August 16
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 71730
Date of publication : 18/3/2015 0:14
Hit : 385

सऊदी अरब के वहाबी मुफ्ती का ईसाई इबादतगाह के खिलाफ़ फ़तवा।

सऊदी अरब के मुफ्ती अब्दुल अजीज बिन अब्दुल्लाह ने कुवैत में सभी चर्चों को ढाने का आदेश दिया है, अरब मीडिया के अनुसार सऊदी अरब के मुफ्ती ने कुवैत देश से आए एक प्रतिनिधिमंडल से बातचीत में कहा कि उनके देश में मौजूद सभी चर्चों का ढ़आ दिया जाए क्योंकि इस्लामी देश में गैर इस्लामी इबादतगाहों की कोई गुंजाइश नहीं होनी चाहिए।


विलायत पोर्टलः रिपोर्ट के अनुसार सऊदी अरब के मुफ्ती अब्दुल अजीज बिन अब्दुल्लाह ने कुवैत में सभी चर्चों को ढाने का आदेश दिया है, अरब मीडिया के अनुसार सऊदी अरब के मुफ्ती ने कुवैत देश से आए एक प्रतिनिधिमंडल से बातचीत में कहा कि उनके देश में मौजूद सभी चर्चों का ढ़आ दिया जाए क्योंकि इस्लामी देश में गैर इस्लामी इबादतगाहों की कोई गुंजाइश नहीं होनी चाहिए।

स्पष्ट रहे कि कुवैत की संसद में भी एक प्रस्ताव पेश किया गया है जिसमें इस क़ानून को पास किया गया है कि किसी नये चर्च के निर्माण की अनुमति नहीं होगी, जबकि पुराने गिरजाघरों को बने रहने दिया जाएगा।

सऊदी अरब के यह मुफ़्ती, वहाबी इस्लाम के सबसे बड़े मुफ्ती समझे जाते हैं और उनके फतवे का पालन करना दुनिया भर के वहाबी अपने लिए वाजिब समझे हैं, पाकिस्तान में वहाबियत के पैरोकार संगठन सिपाहे सहाबा, लश्करे-झंगवी और तालिबान हैं, सऊदी मुफ़्ती के फतवे के संदर्भ में अगर चर्च पर हमले को देखा जाए तो अल्पसंख्यकों पर हमलों का मुख्य कारण समझने में कोई कठिनाई नहीं होगी।

यह बात भी ध्यान में रहे कि पैगंबर मुहम्मद (स.अ) के अनुसार इस्लामी राज्य में अल्पसंख्यकों को अनुमति है कि वह अपनी इबादतगाहें बनाकर अपने तरीके से इबादत कर सकते हैं, इसी लिए हम कहते हैं कि वहाबी इस्लाम का अस्ल इस्लाम से कोई संबंध नहीं है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :