Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 58788
Date of publication : 7/9/2014 21:40
Hit : 684

पढ़ाई के नये साल पर सौ से ज़्यादा बहरैनी बच्चे जेलों में।

बहरैन की अल-विफ़ाक़ इस्लामिक पार्टी ने ऐलान किया है कि देश में नए शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत के साथ ही सौ से अधिक बहरैनी स्कूल में छात्र गिरफ्तार होने की वजह से कक्षाओं से वंचित हो जाएंगे।


अहलेबैत समाचार एजेंसी अबना की रिपोर्ट के अनुसार बहरैन की अल-विफ़ाक़ इस्लामिक पार्टी ने ऐलान किया है कि देश में नए शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत के साथ ही सौ से अधिक बहरैनी स्कूल में छात्र गिरफ्तार होने की वजह से कक्षाओं से वंचित हो जाएंगे। अल-आलम टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार बहरैन की अल-विफ़ाक़ इस्लामिक पार्टी में मानवाधिकार और कैदियों की रिहाई के विभाग के प्रमुख सैयद हादी अल-मूसवी ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि आज रविवार से बहरैन में नए शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत हो रही है, कहा कि 130 बहरैनी स्कूलों के छात्र राजनीतिक समस्याओं के कारण गिरफ्तार होने के कारण स्कूल जाने से वंचित रह जाएंगे। अल-मूसवी ने ऑले ख़लीफा सरकार की ओर से बहरैनी स्कूलों से विद्यार्थीयों को निकाले जाने, उन पर बेबुनियाद आरोप और जुर्माना लगाए जाने की ओर इशारा करते हुए कहा कि आले खलीफा सरकार ने शिक्षा विभाग से जुड़े हजारों बहरैनियों को बदले की कार्रवाईयों का निशाना बनाया है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से