Monday - 2018 June 25
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 58511
Date of publication : 2/9/2014 23:39
Hit : 484

इस्लामी इन्क़ेलाबः सुप्रीम लीडर की निगाह में (3)

इस्लाम और इस्लामी सिस्टम नें एक ऐसे मुल्क की बाग-डोर संभाली थी जिसकी 70 परसेंट से ज़्यादा आबादी जेहालत (अशिक्षा) का शिकार थी लेकिन आज हम एक ऐसे मुल्क के रुप में उभर कर आयें हैं जिसमें पढ़े लिखे लोगों का प्रतिशत बहुत ज़्यादा है।

इन्क़ेलाब की बरकतें
विलायत पोर्टलः इस्लाम और इस्लामी सिस्टम नें एक ऐसे मुल्क की बाग-डोर संभाली थी जिसकी 70 परसेंट से ज़्यादा आबादी जेहालत (अशिक्षा) का शिकार थी लेकिन आज हम एक ऐसे मुल्क के रुप में उभर कर आयें हैं जिसमें पढ़े लिखे लोगों का प्रतिशत बहुत ज़्यादा है। हमारे मुल्क ने यूनिवर्सिटीज़ और स्टूडेंट्स की संख्या में आश्चर्यजनक तरक़्क़ी की है। आज मुल्क में मौजूद स्टूडेंट्स की संख्या इस्लामी सिस्टम बनने के समय मौजूद स्टूडेंट्स के मुक़ाबले दस गुना से भी ज़्यादा है। आज हमारे मुल्क में हर जगह यूनिवर्सिटीज़ मौजूद हैं। इस मुल्क में कौन सा ऐसा छोटा या बड़ा शहर है जहाँ एक दो या इससे ज़्यादा यूनिवर्सिटीज़ न चल रहीं हों। टेक्नालॉजी के मैदान में पैट्रोलियम, पैट्रो कमेस्ट्री, फ़ौलाद और रक्षा क्षेत्र आदि में हमारी तरक़्क़ी आश्चर्य जनक है। कभी किसी ने सोचा भी न होगा कि हमारा मुल्क ख़ुद के प्रोडक्ट्स मार्केट में ला सकेगा लेकिन आज यह ख़्वाब सच्चा साबित हो चुका है। माडर्न टेक्नालॉजी के हवाले से जिसे दुनिया भर में गर्व भरी निगाह से देखा जाता है, हमारे दुश्मन अपनी तमाम दुश्मनियों के बावुजूद इस बात को मानने पर बजबूर हो गये हैं कि ईरान दुनिया के उन दस चुनिन्दा देशों में से एक है जो ऐटमी ईंधन का उत्पादन कर सकते हैं, यह कोई मामूली बात नहीं है। यह सब आश्चर्य जनक तब्दीली और तरक़्क़ी इस्लामी सिस्टम की बरकत की वजह से ही हुआ है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :