Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 57924
Date of publication : 24/8/2014 17:8
Hit : 537

इराकी नागरिकों को दाइश के अत्याचारों से नजात दिलाई जाए।

इराक़ के मामलों में संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि ने उत्तरी शहर तोज़ खोर मातो के करीबी शहर आमुरली में मानवीय त्रासदी के प्रति चेतावनी दी है।

अहलेबैत (अ) समाचार एजेंसी अबना की रिपोर्ट के अनुसार इराक़ के मामलों में संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि ने उत्तरी शहर तोज़ खोर मातो के करीबी शहर आमुरली में मानवीय त्रासदी के प्रति चेतावनी दी है। तुर्की के आई टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार निकोलाईय मलादीनोफ ने एक बयान जारी करके आमुरली में तकफ़ीरी आतंकवादी समूह दाइश की अमानवीय कार्यवाहियों के बारे में कहा कि इस शहर के निवासियों को दाइश के दरिंदों के हाथों बचाने के लिए विश्व जनमत द्वारा तत्काल कदम उठाये जाने की जरूरत है। गौरतलब है कि दाइश के तकफीरी दरिंदों ने आमुरली शहर की नाकेबंदी कर रखी है और शहर के निवासियों के लिए पानी की आपूर्ति और खाद्य सामग्री का वितरण भी बंद कर रखा है। उन्होंने बग़दाद हुकूमत से मांग है की कि आमुरली शहर की नाकेबंदी ख़त्म करने और इस शहर के निवासियों को दाइश के अत्याचारों से बचाने के लिए तत्काल कार्यवाही करे। गौरतलब है आमुरली शहर के निवासी तुर्कमन शिया हैं। नूरी मालिकी सरकार ने आमुरली के हजारों निवासियों को शरणार्थी का दर्जा दिया था और उनकी मुश्किलें हल करने की कोशिश जारी हैं।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से