Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 57012
Date of publication : 6/8/2014 21:41
Hit : 680

ईरानी राष्ट्रपति

बड़ी ताक़तों के सामने सिर झुकाना मना हैः डॉक्टर हसन रूहानी

गठबंधन, एकता और भाईचारे का माहौल, ईरान के इतिहास का हिस्सा है, ईरान की आज की विदेश नीति, अतीत से अलग है और उसी तरह जैसे इस्लामी इंक़ेलाब के सुप्रीम लीडर ने कहा है, कायरतापूर्ण लचीलापन मना है

विलायत पोर्टलः ईरान के राष्ट्रपति ने कहा है कि बड़ी ताक़तों के आगे सर झुकाना मना है। राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने आज ईरान के दक्षिण पश्चिमी प्रांत चहार महालो बख्तियारी के कुर्द शहर में एक सार्वजनिक सभा में इस बात पर बल के साथ कि गठबंधन, एकता और भाईचारे का माहौल, ईरान के इतिहास का हिस्सा है, कहा कि ईरान की आज की विदेश नीति, अतीत से अलग है और उसी तरह जैसे इस्लामी इंक़ेलाब के सुप्रीम लीडर ने कहा है, कायरतापूर्ण लचीलापन मना है। राष्ट्रपति रूहानी ने इस्लामी दुनिया की मुश्किलों व कठिनाइयों का जिक्र करते हुए पिछले एक महीने में ग़ज़्ज़ा और फिलिस्तीन की मज़लूम जनता के प्रतिरोध के हवाले से ईरान की जनता के भरपूर समर्थन की ओर इशारा किया और कहा कि खूंखार ज़ायोनी दुश्मन से फ़िलिस्तीन की जनता ख़ास कर औरतों और बच्चों ने भरपूर दृढ़ता का प्रदर्शन किया है और इस प्रतिरोध के नतीजे में उन्हें सम्मानजनक कामयाबी नसीब हुई है और आगे भी सफलता फिलिस्तीनियों का भाग्य बनेगी। राष्ट्रपति डॉ रूहानी इस बात पर बल देते हुए कि ईरान की जनता फ़िलिस्तीन, लेबनान, सीरिया और इराक के मज़लूम लोगों के साथ है, कहा कि ईरान की दिलेर व बहादुर जनता न केवल ईरान के हितों बल्कि इस्लामी और पूरी दुनिया के मज़लूमों के हितों की सुरक्षा के लिए हमेशा तैयार रहती है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....