नवीनतम लेख

जमाल ख़ाशुक़जी हत्याकांड पर दबाव बढ़ा तो ट्रम्प के लिए संकट खड़ा कर सकता है बिन सलमान ! ज़ायरीन को निशाना बनाने के लिए महिलाओं की वेशभूषा में आए संदिग्ध गिरफ्तार ट्रम्प की ईरान विरोधी नीतियों ने सऊदी अरब को दुस्साहस दिया, सऊदी राजदूतों को देश निकाला दिया जाए । कर्बला से ज़ुल्म के ख़िलाफ़ डट कर मुक़ाबले की सीख मिलती है... अफ़ग़ान युद्ध की दलदल से निकलने के लिए हाथ पैर मार रहा है अमेरिका : वीकली स्टैंडर्ड ईरान में घुसपैठ करने की हसरत पर फिर पानी, आईएसआईएस पर सेना का कड़ा प्रहार ईरान से तेल आयात जारी रखेगा श्रीलंका, भारत की सहायता से अमेरिकी प्रतिबंधों से छूट पाने में जुटा ड्रामा बंद करे आले सऊद, ट्रम्प और जॉर्ड किश्नर को खरीदा होगा अमेरिका को नहीं : टेड लियू ज़ायोनी सैनिकों ने किया क़ुद्स के गवर्नर का अपहरण ट्रम्प ने दी बिन सलमान को क्लीन चिट, हथियार डील नहीं होगी रद्द रूस के कड़े तेवर, एकध्रुवीय दुनिया का सपना देखना छोड़ दे अमेरिका आले सऊद ने अमेरिका के आदेश पर ख़ाशुक़जी के क़त्ल की बात स्वीकारी : मुजतहिद एक पत्रकार की हत्या पर आसमान सर पर उठाने वाला पश्चिमी जगत और अमेरिका यमन पर चुप क्यों ? जमाल ख़ाशुक़जी हत्याकांड में ट्रम्प के दामाद की भूमिका की जांच हो साम्राज्यवाद के मुक़ाबले पर डटा ईरान और ग़ुलामी करते मुस्लिम देशों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ : फहवी हुसैन
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 56629
Date of publication : 1/8/2014 23:45
Hit : 659

सऊदी अरब, जॉर्डन, मिस्र सहित कुछ अरब देश, फ़िलिस्तीन के विरूद्ध इस्राईल के साथ।

मिस्र की अगुवाई में सऊदी अरब, जॉर्डन, संयुक्त अरब अमीरात सहित कुछ अरब देश, फ़िलिस्तीन के विरूद्ध इस्राईल के साथ एकजुट हो गए हैं। अहलेबैत समाचार एजेंसी: मिस्र की अगुवाई में सऊदी अरब, जॉर्डन, संयुक्त अरब अमीरात सहित कुछ अरब देश, फ़िलिस्तीन के विरूद्ध इस्राईल के साथ एकजुट हो गए हैं।
अमरीकी पत्रिका न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल क़ाहिरा में सैन्य विद्रोह और राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी के बर्ख़ास्त किये जाने ने इस स्थिति में अपनी भूमिका निभाई।
दो साल पहले हमास के साथ संघर्ष के बाद चारों तरफ से अरब देशों से घिरे इस्राईल पर संघर्ष विराम के लिए दबाव था।
वाशिंगटन में स्थित विल्सन सेंटर स्कालर आरेन डेविड मिलर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इस बार अरब देशों की राजनीतिक इस्लाम से नफ़रत इतनी ज़्यादा हो चुकी है कि उन्होंने इस्राईली प्रधानमंत्री बिनयामिन नितेनयाहू से अपनी एलर्जी की भी अनदेखी की है।
उन्होंने कहा कि ऐसी सूरत कभी नहीं देखी गई कि जिसमें इतनी बड़ी संख्या में अरब देश ग़ज़्ज़ा नरसंहार और हमास के विनाश पर ख़ामोश बैठे रहे हों।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :