Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 56629
Date of publication : 1/8/2014 23:45
Hit : 692

सऊदी अरब, जॉर्डन, मिस्र सहित कुछ अरब देश, फ़िलिस्तीन के विरूद्ध इस्राईल के साथ।

मिस्र की अगुवाई में सऊदी अरब, जॉर्डन, संयुक्त अरब अमीरात सहित कुछ अरब देश, फ़िलिस्तीन के विरूद्ध इस्राईल के साथ एकजुट हो गए हैं। अहलेबैत समाचार एजेंसी: मिस्र की अगुवाई में सऊदी अरब, जॉर्डन, संयुक्त अरब अमीरात सहित कुछ अरब देश, फ़िलिस्तीन के विरूद्ध इस्राईल के साथ एकजुट हो गए हैं।
अमरीकी पत्रिका न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल क़ाहिरा में सैन्य विद्रोह और राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी के बर्ख़ास्त किये जाने ने इस स्थिति में अपनी भूमिका निभाई।
दो साल पहले हमास के साथ संघर्ष के बाद चारों तरफ से अरब देशों से घिरे इस्राईल पर संघर्ष विराम के लिए दबाव था।
वाशिंगटन में स्थित विल्सन सेंटर स्कालर आरेन डेविड मिलर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इस बार अरब देशों की राजनीतिक इस्लाम से नफ़रत इतनी ज़्यादा हो चुकी है कि उन्होंने इस्राईली प्रधानमंत्री बिनयामिन नितेनयाहू से अपनी एलर्जी की भी अनदेखी की है।
उन्होंने कहा कि ऐसी सूरत कभी नहीं देखी गई कि जिसमें इतनी बड़ी संख्या में अरब देश ग़ज़्ज़ा नरसंहार और हमास के विनाश पर ख़ामोश बैठे रहे हों।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई