Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 56465
Date of publication : 28/7/2014 8:23
Hit : 424

शिया उल्मा पर लाठीचार्ज की कड़ी निंदा, आरोपियों की गिरफ़्तारी की मांग।

हिन्दुस्तान के मशहूर शहर लखनऊ में शुक्रवार को जुमे की नमाज़ के बाद वक़्फ़ सम्पत्तियों की रक्षा के लिये आसेफ़ी मस्जिद (बड़ा इमामबाड़ा) से निकल कर कैबिनेट मंत्री आज़म ख़ां के घर का घेराव करने जा रहे शिया रोज़ेदारों पर पुलिस लाठी चार्ज की विभिन्न संस्थाओं नें निंदा करते हुए दोषी पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही की मांग की है।
अबनाः हिन्दुस्तान के मशहूर शहर लखनऊ में शुक्रवार को जुमे की नमाज़ के बाद वक़्फ़ सम्पत्तियों की रक्षा के लिये आसेफ़ी मस्जिद (बड़ा इमामबाड़ा) से निकल कर कैबिनेट मंत्री आज़म ख़ां के घर का घेराव करने जा रहे शिया रोज़ेदारों पर पुलिस लाठी चार्ज की विभिन्न संस्थाओं नें निंदा करते हुए दोषी पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही की मांग की है। इस सिलसिले में मक़सदे हुसैनी, शिया ओलमाए हिन्द, इमामिया एजूकेशनल ट्रस्ट, आल इण्डिया शिया मंच, ताज़ियेदार सेवक संघ आदि संगठनों नें लाठीचार्ज की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए शहीद होने वाले बुज़ुर्ग कर्रार हुसैन के घर वालों को 20 लाख रुपये और घायलों को 5-5 लाख रुपये मुआवज़े की मांग की है। 
ताज़ियादार सेवक संघ की एक मीटिंग अध्यक्ष हरीश चंद की अध्यक्षता में आयोजित हुई जिसमें शुक्रवार को शिया मुसलमानों पर हुए लाठीचार्ज की सख़्त निंदा करते हुए शहीद कर्रार हुसैन की मौत पर खेद व्यक्त किया गया। इस मीटिंग में पुलिस और उत्तर प्रदेश सरकार की कड़ी आलोचना की गई और गृहमंत्री राजनाथ सिंह से हस्तक्षेप की मांग करते हुए पूरे मामले की जांच निष्पक्ष एजेंसी से कराने की मांग की गई। हरीश चंद धानुक नें आरोप लगया कि यह लाठी चार्ज आज़म ख़ान के इशारे पर किया गया है।
दूसरी तरफ़ मौलाना सय्यद कल्बे जवाद नक़वी सहित विभिन्न स्थानों पर लोगों नें प्रदर्शन के दौरान अपनी जान देने वाले शहीद कर्रार हुसैन के इसाले सवाब के लिये मजलिसें कीं और उनकी मग़फ़िरत के लिये दुआएं मांगी। और उनके घर जाकर संवेदना दी।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....