Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 56279
Date of publication : 25/7/2014 23:32
Hit : 464

मौलाना कल्बे जवाद गिरफ़्तार, लखनऊ के हालात तनावपूर्ण।

शिया वक्फ बोर्ड को लेकर ख़फा चल रहे शिया समुदाय के हजारों लोगों ने आज़म खां मंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उसके बाद जैसे ही पुलिस ने रोज़ेदारों पर लाठी चार्ज किया हालात क़ाबू से बाहर हो गये। हुआ, वो लगातार बढ़ता ही जा रहा है।
अहलेबैत समाचार एजेंसी अबनाः शिया वक्फ बोर्ड को लेकर ख़फा चल रहे शिया समुदाय के हजारों लोगों ने आज़म खां मंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उसके बाद जैसे ही पुलिस ने रोज़ेदारों पर लाठी चार्ज किया हालात क़ाबू से बाहर हो गये। हुआ, वो लगातार बढ़ता ही जा रहा है।
ग़ौर तलब है आजम खां की कारगुजारियों से खफा चल रहे शिया समुदाय के लोगों ने अलविदा की नमाज के बाद उनके बंगले की ओर हरकत की।
रास्ते में जगह-जगह पुलिस तैनात रही, बैरीकेडिंग भी की गई लेकिन उसे तोड़ते-फांदते हुए लोग आजम के घर की ओर बढ़ते चले गए। बीच-बीच में पुलिस से झड़प भी हुई।
जब पीएसी और आरएएफ के जवानों ने भी लाठीचार्ज किया तो भीड़ का ग़ुस्सा भी भड़क गया और पथराव शुरू हो गया जिसमें कई लोगों को चोट आई और हर तरफ अफरा-तफरी मच गई।
इस बीच पुलिस ने शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद को गिरफ्तार कर लिया है। जिसके बाद पूरे लखनऊ के हालात तनावपूर्ण बताये जा रहे हैं।
ग़ौर तलब है कि आज लखनऊ में कैबिनेट मंत्री आजम खां के आवास का घेराव करने जा रहे हजारों की संख्या में शिया मुसलमानों पर पुलिस ने जमकर लाठीचार्ज किया था। जिसके नतीजे में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई थी और ग़ुस्साए लोगों और पुलिस में भी झड़पें भी हुईं थींऔर घटना से ग़ुस्सा शिया मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने कहा था कि आजम खां इस्लाम के नाम पर कलंक हैं।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....