Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 55459
Date of publication : 13/7/2014 0:17
Hit : 470

अगर परमाणु वार्ता नाकाम हुई तो पश्चिमी देश होंगे ज़िम्मेदार।

ईरान की संसद में राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश नीति आयोग के एक सदस्य ने कहा है कि अमरीका तथा पश्चिमी देशों की विशिष्टता प्राप्त करने की नीति के कारण ही गुट पांच धन एक साथ वार्ता में अभी तक कोई परिणाम नहीं निकला है।
ईरान की संसद में राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश नीति आयोग के एक सदस्य ने कहा है कि अमरीका तथा पश्चिमी देशों की विशिष्टता प्राप्त करने की नीति के कारण ही गुट पांच धन एक साथ वार्ता में अभी तक कोई परिणाम नहीं निकला है।
मुहम्मद हसन आसफ़री ने कहा कि वार्ता का जारी रहना और किसी सहमति तक पहुंचने में विलंब, पश्चिम के हित में नहीं है क्योंकि यूरेनियम संवर्धन के लिए ईरान को गुट पांच धन एक से कोई प्रमाणपत्र लेने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि परमाणु वार्ता में ईरान की उपस्थिति, केवल पारदर्शिता और विश्वास बहाली के लिए है। आसफ़री ने कहा कि उचित यह है कि वार्तापक्ष ईरान के बारे में धमकी, प्रतिबंध और दबाव के स्थान पर सम्मान और वार्ता को प्राथमिकता दें। 
उन्होंने कहा कि यदि दबाव और धमकियों का कोई परिणाम निकलता तो 35 वर्षों के दौरान पश्चिम अपने लक्ष्य को प्राप्त कर चुका होता। मुहम्मद हसन आसफ़री ने कहा कि निश्चित रूप से ईरान ने न तो कभी दबाव स्वीकार किया है और न ही वह इसे स्वीकार करेगा।
ज्ञात रहे कि ईरान और गुट पांच धन एक के बीच वियना में 2 जुलाई से परमाणु वार्ता का छठा चरण आरंभ हुआ है। इसकी समय सीमा 20 जुलाई निर्धारित की गई है।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....