Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 54712
Date of publication : 3/7/2014 14:8
Hit : 685

दाइश के लीडर का फ़त्वाः सभी मुसलमानों पर इराक और सीरिया पलायन करना वाजिब।

तकफ़ीरी समूह दाइश के लीडर अबू बकर बग़दादी ने सभी मुसलमानों पर वाजिब ठहराया है कि वह “ख़िलाफ़ते इस्लामी” की ओर पलायन करें क्योंकि अब मुसलमानों के लिए इराक और सीरिया में इस्लामी ख़िलाफ़त का गठन अंजाम पा गया है।
अहलेबैत (अ) समाचार एजेंसी अबनाः तकफ़ीरी समूह दाइश के लीडर अबू बकर बग़दादी ने सभी मुसलमानों पर वाजिब ठहराया है कि वह “ख़िलाफ़ते इस्लामी” की ओर पलायन करें क्योंकि अब मुसलमानों के लिए इराक और सीरिया में इस्लामी ख़िलाफ़त का गठन अंजाम पा गया है।
अबू बकर बग़दादी जिसने हालिया दिनों में खुद को मुसलमानों का ख़लीफा ठहराया है, उसका कहना है कि जो मुसलमान इराक़ और सीरिया आने पर सामर्थ हैं उन पर वाजिब है कि वह इस्लामी ख़िलाफ़त की ओर पलायन करें।
उसने यह बताते हुए कि इस्लामी ख़िलाफ़त की ओर पलायन हर मुसलमान पर वाजिब है, कहा इस्लामी ख़िलाफ़त की स्थापना सभी मुसलमानों के लिए वाजिब है।
दाइश के लीडर ने दावा किया है कि यह हुकूमत दुनिया में मुसलमानों पर होने वाले अत्याचारों का मुकाबला करने के लिए स्थापित हुई है।
उसने कुछ देशों जैसे फ़िलिस्तीन, मध्य अफ्रीका और म्यांमार में मुसलमानों पर होने वाले अत्याचारों की ओर इशारा करते हुए कहा: वास्तव में यह कार्यवाहियां आतंकवाद हैं।
बग़दादी ने इराक और सीरिया में लड़ने वाले अपने चम्चों से कहा है कि इराक और सीरिया में अपनी सफलताओं पर खुश न हों और आपसी मतभेदों को दूर कर दुश्मनों के विरूद्ध लड़ाई जारी रखें।
गौरतलब है कि सीरिया और इराक में आतंकवादियों को मिलने वाली स्पष्ट हार, बग़दादी की नज़र में बड़ी सफलता है और ख़िलाफ़ते यज़ीद जिसमें बच्चों तक की हत्याएं की जाती हैं, जिसमें महिलाओं की इज़्ज़त को लूटा जाता है जिसमें जवानों की गर्दन काटी जाती है, ख़िलाफ़ते इस्लामी है ........



आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....