Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 196875
Date of publication : 8/12/2018 4:59
Hit : 92

सुरक्षा परिषद अपना कर्तव्य निभाने में असफल, अमेरिकी प्रतिबंध हैं आर्थिक आतंकवाद : ईरान

पिछले कुछ दशक में दुनिया भर में होने वाले युद्धों में अधिकांश एशिया में हुए है इसी प्रकार आतंकी संगठन का उत्थान भी एशिया में ही हुआ है लेकिन सवाल यह है कि क्या यह सब एशिया के माहौल के कारण संभव हुआ या इन के पीछे कोई बाहरी शक्ति है.......

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी केअनुसार तेहरान में हो रही दूसरी स्पीकर्स कांफ्रेस को संबोधित करते हुए ईरान पार्लियामेंट स्पीकर अली लारीजानी ने कहा कि पिछेल कुछ दशक में दुनिया भर में होने वाले युद्धों में अधिकांश एशिया में हुए है इसी प्रकार आतंकी संगठन का उत्थान भी एशिया में ही हुआ है लेकिन सवाल यह है कि क्या यह सब एशिया के माहौल के कारण संभव हुआ या इन के पीछे कोई बाहरी शक्ति है तो यह बात आसानी से समझ में आती है कि सबके पीछे बाहरी देशों का हाथ है । लारीजानी ने कहा कि खुद अमेरिकी अधिकारियों ने स्वीकार किया है कि दाइश का गठन अमेरिका ने किया है तेहरान में हो रही इस कांफ्रेंस में रूस, ईरान, चीन, पाकिस्तान, तुर्की, अफ़ग़ानिस्तान के पार्लियामेंट स्पीकर्स भाग ले रहे हैं ।
........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई