Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 194750
Date of publication : 31/7/2018 13:48
Hit : 1024

उत्तर कोरिया नहीं ईरान है, सम्मान से बात करे अमेरिका : मोहम्मद अल बरादेई

कोई भी बातचीत या समझौता आपसी विश्वास, एकदूसरे के सम्मान और आपसी सहयोग से होता है धमकियाँ देकर या अपमान कर आप किसी से बातचीत या समझौता नहीं कर सकते, यह ईरान है यहाँ उत्तर कोरिया वाला फार्मूला नहीं चल सकता।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार मिस्र के वरिष्ठ राजनेता तथा अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के पूर्व प्रमुख मोहम्मद अल बरादेई ने ईरान से वार्ता की इच्छा ज़ाहिर करने वाले ट्रम्प के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ट्रम्प को जान लेना चाहिए कि ईरान के खिलाफ उत्तर कोरिया वाला फार्मूला काम नहीं करेगा। आप पहले एक अंतर्राष्ट्रीय समझौते को तोड़ कर फिर से बातचीत की उम्मीद नहीं कर सकते आप पहले एक देश को धमकियाँ देकर , उसका अपमान कर अचानक बातचीत की पेशकश नहीं कर सकते । अलबरादेई ने कहा कि कोई भी बातचीत या समझौता आपसी विश्वास, एकदूसरे के सम्मान और आपसी सहयोग से होता है धमकियाँ देकर या अपमान कर आप किसी से बातचीत या समझौता नहीं कर सकते, यह ईरान है यहाँ उत्तर कोरिया वाला फार्मूला नहीं चल सकता।
.....................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई