Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 194715
Date of publication : 29/7/2018 11:49
Hit : 557

दमिश्क़ फैसला करेगा किसे सीरिया में रहना है किसे नहीं : चीन

सीरिया से विदेशी सैनिकों के निकालने के मुद्दे पर निर्णय दमिश्क़ को लेना है यह निर्णय करने का अधिकार केवल दमिश्क़ को है कि इस देश में रहेगा कौन और कौन नहीं '

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार सीरिया में अमेरिका और उसके साथियों के अवैध मौजूदगी पर कड़ा रोष जताते हुए चीन ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि इस बात का निर्णय दमिश्क़ लेगा कि किस देश को सीरिया में रुकना है और किसे अपने सैनिकों को निकालना है।.  दमिश्क़ में चीन के राजदूत ची चियानचीन ने कहा कि हमारे अनुसार सीरिया संकट का एकमात्र समाधान आपसी वार्ता है । उन्होंने कहा कि सीरिया से विदेशी सैनिकों के निकालने के मुद्दे पर निर्णय दमिश्क़ को लेना है यह निर्णय करने का अधिकार केवल दमिश्क़ को है कि इस देश में रहेगा कौन और कौन नहीं ' । उन्होंने कहा कि आज सीरिया संकट सिर्फ सीरिया का नहीं बल्कि अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बन गया है, इस संकट को क्षेत्री और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हल करने की ज़रूरत है हम इस संकट के समाधान के लिए होने वाले जेनेवा, आस्ताना तथा सोची सम्मेलनों का समर्थन करते हैं।
..............................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई बिन सलमान इस्राईल का सामरिक ख़ज़ाना, हर प्रकार रक्षा करें ट्रम्प : नेतन्याहू लेबनान इस्राईल सीमा पर तनाव, लेबनान सेना अलर्ट हिज़्बुल्लाह की पहुँच से बाहर नहीं है ज़ायोनी सेना, पलक झपकते ही नक़्शा बदलने में सक्षम हिंद महासागर में सैन्य अभ्यास करने की तैयारी कर रहा है ईरान हमास से मिली पराजय के ज़ख्मों का इलाज असंभव : लिबरमैन भारत और संयुक्त अरब अमीरात डॉलर के बजाए स्वदेशी मुद्रा के करेंगे वित्तीय लेनदेन । सामर्रा पर हमले की साज़िश नाकाम, वहाबी आतंकियों ने मैदान छोड़ा