Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 194080
Date of publication : 2/6/2018 15:51
Hit : 1170

अमेरिका, रोज़ेदार मुसलमान क़ैदियों को खिलाया जा रहा है सुअर का मांस

इन्क्रीज में मुसलमान जो रमज़ान में रोज़े रख रहे हैं वह 18 घंटे तक बिना कुछ खाए पिये रहते हैं, रोज़ेदार क़ैदियों को प्रतिदिन 1100 कैलोरीज़ के खाद्य पदार्थ दिए जाते हैं जो कि पुरुषों के लिए प्रतिदिन के आधार पर ढाई हज़ार कैलोरीज़ की आवश्यकता से बहुत कम हैं, क़ैदियों को दिए गए खाने में सुअर का मांस भी शामिल होता है जिसको इस्लाम धर्म मे मना किया गया है।
विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी एक अनुसार फ़्रांसीसी समाचार एजेन्सी एएफ़पी ने दावा किया है कि अमेरिका की इस्लामी संपर्क काउंसिल सीएआईआर ने मुक़द्दमा दर्ज कराते हुए दावा किया है कि इन्क्रीज करकश्नल कांप्लेक्स ने अत्याचारपूर्ण और असमान्य सज़ाओं की क़ानूनी प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन किया है। उनका कहना था कि अलास्का की अमेरिकी ज़िला अदालत ने उनकी याचिका स्वीकार करते हुए जेल के गार्ड को तुरंत सरकारी स्वास्थ्य की गाइड लाइन के अनुसार खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराने का निर्देश दे दिया है। वाशिंग्टन स्थित इस संस्था ने अपने बयान में कहा है कि सीएआईआर ने ट्रम्प के राष्ट्रपति बनने के बाद से अमेरिकी मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यक गुटों के विरुद्ध घटनाओं में असमान्य वृद्धि देखी है। रिपोर्ट मे कहा गया है कि इन्क्रीज में मुसलमान जो रमज़ान में रोज़े रख रहे हैं वह 18 घंटे तक बिना कुछ खाए पिये रहते हैं, रोज़ेदार क़ैदियों को प्रतिदिन 1100 कैलोरीज़ के खाद्य पदार्थ दिए जाते हैं जो कि पुरुषों के लिए प्रतिदिन के आधार पर ढाई हज़ार कैलोरीज़ की आवश्यकता से बहुत कम हैं, क़ैदियों को दिए गए खाने में सुअर का मांस भी शामिल होता है जिसको इस्लाम धर्म मे मना किया गया है। सीएआईआर की ओर से दायर मुक़द्दमे में क़ैदियों के लिए एक संतुलित आहार और नीतियों में परिवर्तन की मांग की गई है ताकि भविष्य में दोबारा ऐसी ग़लती न हो। .............................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....