Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 194068
Date of publication : 1/6/2018 14:32
Hit : 700

नाकाबंदी के 711 दिन, 98 हफ़्तों से जुमा नहीं पढ़ सके हैं बहरैन वासी ।

बहरैन के लोकप्रिय नेता आयतुल्लाह शैख़ क़ासिम के अल दराज़ क्षेत्र में स्थित घर की नाकाबंदी के नाम पर इस पूरे क्षेत्र को सील किए रखा और अतीत की तरह ही बहरैन की सबसे बड़ी नमाज़े जुमा को एक बार फिर नही पढ़ने दिया गया।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार बहरैन में जारी आले खलीफा की अंधेरगर्दी इस हद तक बढ़ चुकी है कि खुद को मुसलमान कहने वाले इन ज़ायोनी-अमेरिकी और साम्राज्यवादी एजेंटों के शासन में इस देश का बहुसंख्यक शिया समाज तानाशाही की ओर से लगाई गयी पाबन्दियाँ की वजह से 98 हफ़्तों से नमाज़े जुमा नहीं पढ़ सका है । यह 711 वां दिन था जब आले खलीफा के गुंडों ने बहरैन के लोकप्रिय नेता आयतुल्लाह शैख़ क़ासिम के अल दराज़ क्षेत्र में स्थित घर की नाकाबंदी के नाम पर इस पूरे क्षेत्र को सील किए रखा और अतीत की तरह ही बहरैन की सबसे बड़ी नमाज़े जुमा को एक बार फिर नही पढ़ने दिया गया।  क्षेत्र की इमाम सादिक़ अ.स. मस्जिद में एक बार फिर क्षेत्रीय लोगों को खलीफाई गुंडों द्वारा इमाम जुमा को मस्जिद में प्रवेश न दिए जाने तथा आस पास के नमाज़ियों का रास्ता रोक देने के कारण नमाज़ जुमा के बिना घरों को लौटना पड़ा । याद रहे कि इस मस्जिद में सैंकड़ों सालों से नमाज़े जुमा अदा की जाती रही है जब बहरैन में आले खलीफा का नामों निशान भी नहीं था ।
...................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....