Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192881
Date of publication : 31/3/2018 9:15
Hit : 475

इस्लाम को फैलाने और बचाने में इमाम अली अ.स. की भूमिका

ख़ुद काबे में आपकी विलादत काबे की अज़मत और महानता को बाक़ी रखने का कारण बनी, पैदा होते ही क़ुर्आन के नाज़िल होने से पहले ही क़ुर्आन की तिवालत कर के क़ुर्आन की सच्चाई को पूरी दुनिया के सामने ज़ाहिर किया तो बड़े हो कर क़ुर्आन को जमा करने का बे मिसाल काम अंजाम दे कर क़ुर्आन को हमेशा हमेशा के लिए तहरीफ़ (फेरबदल) से बचा लिया।

विलायत पोर्टल :  रजब के महीने को यह फ़ज़ीलत हासिल है कि इस महीने मे इस्लाम को अपना सबसे पहला रक्षक (मुहाफ़िज़) मिला, 13 रजब सन् 30 आमुलफ़ील को उस महान हस्ती ने इस दुनिया में आंखें खोलीं जिसने अपनी क़ुर्बानियों से क़यामत तक के लिए अल्लाह के दीन और उसके क़ानून को हमेशा के लिए बचा लिया। इस्लाम के पास चार ऐसे बड़े ख़ज़ाने थे जिनकी हिफ़ाज़त और जिनको बचाना बेहद ज़रूरी था, और वह चार तौहीद, नबुव्वत व रिसालत, क़ुर्आन और काबा थे, इस्लाम को एक ऐसे बचाने वाले की ज़रूरत थी जो इन चारों ख़ज़ानों को हर तरह के ज़ाहिरी और छिपे हुए ख़तरों से बचाए, और इन ख़ज़ानों के चारों तरफ़ ऐसी मज़बूत दीवार खींच दे जिससे दुश्मन अपनी लाख कोशिशों और साज़िशों के बावजूद उसमें सेंध न लगा सके।
इस मुबारक महीने में अल्लाह ने इन चारों ख़ज़ानों की रक्षा का ऐसी शख़्सियत द्वारा बंदोबस्त किया जो इल्म के ऐतेबार से उस आयत का मिसदाक़ जिसमें कहा गया कि उसके पास अल्लाह की किताब का पूरा इल्म है और जिसे इल्म के शहर का दरवाज़ा कहा गया, जिस्मानी ताक़त के हिसाब से ला फ़ता के मिसदाक़ और अमल के मैदान में तौहीद और नबुव्वत के साथ काबा और क़ुर्आन को इस तरह बचाया कि काबे में रखे हुए बुतों को तोड़ कर अल्लाह की तौहीद को बचाया, पैग़म्बर स.अ. की गोद में उनकी रिसालत की गवाही दे कर रिसालत और नबुव्वत को बचाया, ख़ुद काबे में आपकी विलादत काबे की अज़मत और महानता को बाक़ी रखने का कारण बनी, पैदा होते ही क़ुर्आन के नाज़िल होने से पहले ही क़ुर्आन की तिवालत कर के क़ुर्आन की सच्चाई को पूरी दुनिया के सामने ज़ाहिर किया तो बड़े हो कर क़ुर्आन को जमा करने का बे मिसाल काम अंजाम दे कर क़ुर्आन को हमेशा हमेशा के लिए तहरीफ़ (फेरबदल) से बचा लिया।
अगर आप इन चारों के बाक़ी रहने के राज़ पर ध्यान दें तो आपको तौहीद, नबुव्वत, क़ुर्आन और काबा चारों की बुनियादों में इमाम अली अ.स. की क़ुर्बानी दिखाई देती है जिसको कभी भुलाया नहीं जा सकता है, और शायद इस्लाम के इन चारों ख़ज़ानों को बचाने में आपकी क़ुर्बानी को देख कर अल्लाह ने आपका नाम अली (अ.स.) रखा, जैसाकि रिवायत में मिलता है कि पैग़म्बर स.अ. ने जब आपके नाम को अल्लाह के नाम पर अली (अ.स.) रखा तो हज़रत अबू तालिब और हज़रत फ़ातिमा बिन्ते असद ने पैग़म्बर स.अ. से कहा कि हमने ग़ैब से इसी नाम को सुना था।
आपके मशहूर लक़ब अमीरुल मोमेनीन, मुर्तज़ा, असदुल्लाह, यदुल्लाह, नफ़सुल्लाह, हैदर, कर्रार, नफ़्से रसूल और साक़ी-ए-कौसर हैं जिनको अगर समेट कर एक जगह जमा किया जाए तो अपने आप मुंह से अली (अ.स.) ही निकलता है। आप हाशमी घराने के वह पहले बेटे हैं जिनके वालिद और वालिदा दोनों हाशमी हैं, आपके वालिद अबू तालिब इब्ने अब्दुल मुत्तलिब इब्ने हाशिम हैं और वालिदा फ़ातिमा बिन्ते असद इब्ने हाशिम हैं। और इस बात को सभी इतिहासकारों ने क़ुबूल किया है कि हाशमी घराना क़ुरैश में और क़ुरैश पूरे अरब में अख़ालाक़ और नैतिकता में मशहूर था, यह घराना बहादुरी, शराफ़त और भी बहुत सारी अख़लाक़ी आदतों के लिए मशहूर था और यह सभी अख़लाक़ी सिफ़ात इमाम अली अ.स. में पूरी तरह से पाए जाते थे।
आपकी अज़मत और महानताओं की सबसे पहली गवाह आपकी अल्लाह के घर में विलादत है, इतिहासकारों ने लिखा है कि जब आपकी विलादत का समय क़रीब आया तो हज़रत फ़ातिमा बिन्ते असद काबे के पास आईं और अपने जिस्म को उसकी दीवार से मस कर के कहा, ख़ुदाया मैं तुझ पर, तेरे नबी पर, तेरी भेजी हुई आसमानी किताबों पर और इस मकान को बनाने वाले अपने दादा इब्राहीम की बातों पर पूरा ईमान रखती हूं। ख़ुदाया तुझसे इस मकान को बनाने वाले की इज़्ज़त और मेरे पेट में मौजूद बच्चे के वसीले से दुआ करती हूं कि इस बच्चे की विलादत को आसान कर दे।
अभी दुआ को ख़त्म हुए एक पल भी नहीं गुज़रा था कि दीवार में अब्बास इब्ने अब्दुल मुत्तलिब और यज़ीद इब्ने तअफ़ की निगाहों के सामने दरवाज़ा बना और हज़रत फ़ातिमा बिन्ते असद काबे के अंदर चली गईं और फिर दीवार दोबारा वैसे ही जुड़ गई, हज़रत फ़ातिमा बिन्ते असद तीन दिन तक अल्लाह के घर की मेहमान रहीं और 13 रजब सन् 30 आमुलफ़ील को अपनी गोद में इस्लाम की बुनियादों को बचाने वाले को लेकर बाहर आईं, दुनिया में जब तक अल्लाहो अकबर की आवाज़ें गूंजती रहेंगी तब तक यह दुनिया इमाम अली अ.स. की क़ुर्बानियों को याद करती रहेगी।
۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

नोबेल विजेता की मांग, यमन युद्ध का हर्जाना दें सऊदी अरब और अमीरात । फ़िलिस्तीन का संकट लेबनान का संकट है , क़ुद्स का यहूदीकरण नहीं होने देंगे : मिशेल औन महत्त्वहीन हो चुका है खाड़ी सहयोग परिषद, पुनर्गठन एकमात्र उपाय : क़तर एयरपोर्ट के बदले एयरपोर्ट, दमिश्क़ पर हमला हुआ तो तल अवीव की ख़ैर नहीं ! तुर्की को SDF की कड़ी चेतावनी, कुर्द बलों को निशाना बनाया तो पलटवार के लिए रहे तैयार । दमिश्क़, राष्ट्रपति बश्शार असद ने दी 16500 लोगों को आम माफ़ी । यमन का ऐलान, वारिस कहें तो हम ख़ाशुक़जी के शव लेने की प्रक्रिया शुरू करें । प्योंगयांग और सिओल मिलकर करेंगे 2032 ओलंपिक की मेज़बानी ईरान अमेरिका के आगे नहीं झुकेगा, अन्य देशों को भी प्रतिबंधों के सामने डटने का हुनर सिखाएंगे । सऊदी अरब के पास तेल ना होता तो आले सऊद भूखे मर जाते : लिंडसे ग्राहम ईरानी हैकर्स ने अमेरिकी अधिकारियों के ईमेल हैक किए ! ईरान, रूस और चीन से युद्ध के लिए तैयार रहे ब्रिटेन : जनरल कार्टर हमास की ज़ायोनी अतिक्रमणकारियों को चेतावनी, हमारे देश से से निकल जाओ । पाकिस्तान में इतिहास का सबसे बड़ा निवेश करने वाला है सऊदी अरब नेतन्याहू की धमकी, अस्तित्व की जंग लड़ रहा इस्राईल अपनी रक्षा के लिए कुछ भी करेगा ।