Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192868
Date of publication : 29/3/2018 17:19
Hit : 310

सीरिया , आतंकी संगठनों की भेंट चढ़ने वालों में 40% बच्चे शामिल : यूनिसेफ

सीरिया में सक्रिय आतंकवादियों ने इस देश के विभिन्न नगरों और इलाक़ों पर अपने क़ब्ज़े के दौरान, घरों , बिल्डिंगों, पार्कों, गाड़ियों , मोटर साइकिलों बल्कि बच्चों के खिलौनों तक में बम लगा रखे थेसीरियाई इलाक़ों की आज़ादी के बाद इस देश की सेना सब से पहले आज़ाद होने वाले इलाक़ों में बारुदी सुरंगों और बमों से साफ करने का प्रयास करती है।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार पूरी दुनिया में बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य एवं सुरक्षा आदि के लिए कार्य करने वाले संयुक्त राष्ट्र यूनिसेफ संगठन ने सीरिया त्रासदी के गंभीर पहलुओं का उल्लेख करते हुए कहा कि इस युद्ध से सर्वाधिक पीड़ित होने वालों में 40% बच्चे शामिल हैं । यूनिसेफ में मध्य पूर्व के क्षेत्रीय प्रभारी ” गेर्ट कॉपलेयर” ने सोमवार को कहा है कि सीरिया के संकट से प्रभावित होने वाले 40 प्रतिशत बच्चे हैं। गेर्ट कॉपलेयर ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि तीस लाख बच्चों को बम या बारुदी सुरंग का शिकार बनने का खतरा है कहा कि अब तक हज़ारों सीरियाई बच्चे आतंकवादियों द्वारा लगाई गई बारूदी सुरंगों के फटने के पूरी तरह से अपंग हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि सीरिया में सात वर्षों से जारी संकट की वजह से इस देश के बच्चे कई प्रकार के मानसिक विकारों से ग्रस्त हो गए हैं। याद रहे कि सीरिया में सक्रिय आतंकवादियों ने इस देश के विभिन्न नगरों और इलाक़ों पर अपने क़ब्ज़े के दौरान, घरों , बिल्डिंगों, पार्कों, गाड़ियों , मोटर साइकिलों बल्कि बच्चों के खिलौनों तक में बम लगा रखे थे जिससे साबित होता है कि उनके लिए भारी मात्रा में विस्फोट पदार्थ उपलब्ध कराए गये थे। सीरियाई इलाक़ों की आज़ादी के बाद इस देश की सेना सब से पहले आज़ाद होने वाले इलाक़ों में बारुदी सुरंगों और बमों से साफ करने का प्रयास करती है। सीरिया में 2011 से अमेरिका, सऊदी अरब और ब्रिटेन सहित उनके अन्य घटकों के समर्थन से आतंकवादियों ने व्यापक रूप से आंतकवादी हमले कर सीरिया के बहुत से क्षेत्रों पर क़ब्ज़ा कर लिया था । सीरियाई सेना ने 19 नवंबर 2017 में प्रतिरोध मोर्चे और रूस की मदद से आतंकवादी संगठन दाइश के अंतिम ठिकाने ” बूकमाल” नगर को आजा़द करा लिया जिसके बाद अब सीरिया में सक्रिय अधिकांश आतंकवादी, दैरुज़्जोर और हिम्स तथा आस पास मरुस्थलों और जंगलों तक ही सीमित रह गए हैं।
 .................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....