Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192837
Date of publication : 28/3/2018 16:15
Hit : 514

सऊदी हमलों के कारण प्रतिदिन 130 यमनी बच्चे बन रहे हैं मौत का निवाला ।

आले सऊद की ओर से यमन पर थोपी गई जंग और उसके नतीजे में फैली बिमारियों और भुखमरी के कारण 2017 में ही इस देश में 50 हज़ार से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है ।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार यमन के भगोड़े और और पूर्व राष्ट्रपति मंसूर हादी को सत्ता दिलाने के लिए यमन पर पिछले 3 साल से यमन के खिलाफ युद्ध छेड़े हुए सऊदी अरब के कारण इस देश में प्रतिदिन 130 बच्चे काल के गाल में समा रह हैं । अलजज़ीरा और फ़्रांस न्यूज़ एजेंसी के अनुसार यमन पर सऊदी आक्रमण के कारण अब तक 10 हज़ार से अधिक आम नागरिक मारे गए हैं तथा 53 हज़ार से अधिक घायल हुए हैं ।
सूत्रों के अनुसार यह आंकड़े युद्ध से जुड़े लोगों के हैं लेकिन युद्ध के प्रभाव में आकर मरने वाले लोगों की संख्या कहीं अधिक है । आले सऊद की ओर से यमन पर थोपी गई जंग और उसके नतीजे में फैली बिमारियों और भुखमरी के कारण 2017 में ही इस देश में 50 हज़ार से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है । संयुक्त राष्ट्र के अनुसार यमन में फैली त्रासदी की हालत यह है कि यहाँ 3 मिलियन से अधिक लोग अपना घरबार छोड़ कर जा चुके हैं वहीं यमन की 27 मिलियन जनसँख्या में से लगभग 18.8 मिलियन लोगों को तत्काल मानवीय सहायता की आवश्यकता है ।
 ......................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी ।