Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192835
Date of publication : 28/3/2018 15:43
Hit : 692

हसन नसरुल्लाह की बातों पर मोसाद के अधिकरियों ने मोहर लगाई, इस्राईल पर मंडरा रहा है विनाश का खतरा ।

दक्षिण लेबनान के बिन्ते जुबैल शहर में दिए गए हसन नसरूल्लाह के भाषण के 18 साल बीत जाने के बाद ख़ुद इस्राईल के उच्चाधिकारी अधिकारिक रूप से इस बात की पुष्टि कर रहे हैं इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि सय्यद हसन नसरुल्लाह की बातें शत प्रतिशत सही थीं उन्होने जो कुछ कहा था उसका एक एक शब्द सत्य और सटीक है।

विलायत पोर्टल :  जब लेबनान के हिज़्बुल्लाह आंदोलन के जनरल सेक्रेटरी सय्यद हसन नसरुल्लाह ने कहा था कि इस्राईल मकड़ी के जाले से भी अधिक कमज़ोर है तो शायद उनकी इस बात को दुनिया ने गंभीरता से नहीं लिया लेकिन आज दक्षिणी लेबनान के बिन्ते जुबैल शहर में दिए गए उनके भाषण के 18 साल बीत जाने के बाद ख़ुद इस्राईल के उच्चाधिकारी अधिकारिक रूप से इस बात की पुष्टि कर रहे हैं इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि सय्यद हसन नसरुल्लाह की बातें शत प्रतिशत सही थीं उन्होने जो कुछ कहा था उसका एक एक शब्द सत्य और सटीक है।
इस्राईली ख़ुफ़िया एजेंसी मोसाद के पूर्व प्रमुख जोए ज़मीर ने हिब्रू भाषा में प्रकाशित होने वाले ज़ायोनी समाचार पत्र यदीऊत अहारनूत से बातचीत में कहा कि इस्राईल बहुत बुरी दशा में पहुंच चुका है, मैं चाहता हूं कि मेरी संतान और मेरे पोते पोतियां यहीं जीवन गुज़ारें लेकिन इस्राईल बुरी तरह बीमार हो चुका है, यही नहीं उसकी सुरक्षा व्यवस्था को भी भयानक संकट का सामना करना पड़ रहा है जोए ज़मीर ने कहा कि जिस समय नेतन्याहू ने इस्राईल की बागडोर संभाली यह स्थिति उसी समय प्रकट हो गई थी लेकिन उन्होंने इस बीमारी को बहुत दर्दनाक स्थिति में पहुंचा दिया है।
इस्राईल उस भीषण संकट में घिर चुका है जिसका कोई इलाज नहीं है और यह संकट दिन प्रतिदिन और बढ़ता ही जा रहा है जोए ज़मीर के अनुसार नेतन्याहू अपने निजी हितों को साधने में लगे हुए है उसे देश की कोई परवाह नहीं है उन्हें एक दिन सत्ता से जाना ही होगा लेकिन वह देश की क्या दशा करेंगे देश के लिए क्या छोड़ेंगे इस की कोई गारंटी नहीं है ।
यदीऊत अहारनूत ने यहूदी पर्व के अवसर पर आयोजित समारोह में मोसाद के छह पूर्व निदेशकों को एकत्रित किया था, अख़बार आगामी शुक्रवार को सभी निदेशकों के संपूर्ण साक्षात्कार प्रकाशित करने वाला है लेकिन बातचीत के मूल बिंदु मीडिया में चर्चा का विषय बन गए हैं। मोसाद के एक अन्य पूर्व निदेशक डैनी यैटोम ने कहा कि इस्राईल बुरी से भी बदतर स्थिति की ओर जा रहा है, नेतन्याहू और उनके क़रीबी लोगों के भ्रष्टाचार की जांच चल रही है यह लोग अपने निजी हितों को हर चीज़ से ऊपर रखते हैं नेतन्याहू इस्राईल को लेकर जिस दिशा में बढ़ रहे हैं वह इस्राईल को पूरी तरह ख़त्म कर देगी ज़ायोनी नेता को चाहिए कि पद छोड़कर घर चले जाएं। मोसाद के एक अन्य पूर्व निदेशक टैमिर पार्डो ने कहा कि नेतन्याहू सारे मूल्यों को ध्वस्त कर रहे हैं और धीरे धीरे सब उस दिशा में आगे चले जा रहे हैं। उन्होंने इस्राईली इंटेलिजेंस की विफलताएं गिनवाते हुए कहा कि वर्ष 2007 में भी इस्राईली इंटेलिजेंस को भयानक नाकामी का सामना हुआ और यह नाकामी सीरिया के मामले में हुई है ।
मोसाद के एक और पूर्व निदेशक नाहूम एडमोनी ने अख़बार से कहा कि इस समय इस्राईली समाज के भीतर यूरोप से आने वाले यहूदियों और पूर्वी देशों से आने वाले यहूदियों में गहरा भेदभाव और विवाद है उन्होंने कहा कि हालिया वर्षों में यह खाई और भी गहरी हो गई है जिसके भरने की कोई संभावना दिखाई नहीं देती।
 ......................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई