Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192817
Date of publication : 27/3/2018 18:43
Hit : 425

गोता, सीरियन सेना ने शिकंजा कसा, मैदान छोड़ कर भागे आतंकी ।

सेना ने आतंकियों से मुक्त कराये गए क्षेत्रों में सघन तलाशी अभियान चलाते हुए इस क्षेत्र में बिछाये गए सुरंगों के जाल का पता लगाया है जो इस क्षेत्र के अलग अलग भाग को एक दूसरे से जोड़ती थी ज्ञात रहे कि यह सुरंगे इतनी विशाल हैं कि इनमे बड़े बड़े वाहनों द्वारा गोता के अलग अलग भाग में सफर किया जाता रहा है और आतंकी संगठनों को एक दूसरे से जोड़ने का महत्वपूर्ण साधन थी ।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार सीरियन सेना ने राजधानी दमिश्क़ के नज़दीक स्थित पूर्वी गोता में वहाबी आतंकी संगठनों के विरुद्ध सफल अभियान चलाते हुए इस क्षेत्र के अधिकांश भाग को आतंकियों के चंगुल से मुक्त करा लिया है । सूत्रों के अनुसार सेना के आगे समर्पण करने वाले फ़ीलकुर रहमान और अन्य आतंकी संगठनों को सेना ने समझौते के अनुरूप सुरक्षित आतंकी संगठनों के अधीनस्थ इदलिब प्रांत जाने की अनुमति दे दी है । सेना ने आतंकियों से मुक्त कराये गए क्षेत्रों में सघन तलाशी अभियान चलाते हुए इस क्षेत्र में बिछाये गए सुरंगों के जाल का पता लगाया है जो इस क्षेत्र के अलग अलग भाग को एक दूसरे से जोड़ती थी ज्ञात रहे कि यह सुरंगे इतनी विशाल हैं कि इनमे बड़े बड़े वाहनों द्वारा गोता के अलग अलग भाग में सफर किया जाता रहा है और आतंकी संगठनों को एक दूसरे से जोड़ने का महत्वपूर्ण साधन थी । वहीँ दूसरी ओर सऊदी समर्थित तथा दोमा शहर में पैठ बनाये आतंकी संगठन जैशुल इस्लाम ने क्षेत्र छोड़ने से मना कर दिया है जिसके बाद सेना ने इस वहाबी आतंकी संगठन को कुछ घंटों की अंतिम मोहलत दी है।
.............................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची