Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192788
Date of publication : 26/3/2018 16:29
Hit : 438

मिडिल ईस्ट में शांति स्थापित करने के लिए ईरान ने अपने जवानों का बलिदान दिया : मुफ़्ती ए आज़म मॉस्को

अगर ईरान इन देशों की सहायता न करता तो इस बात की बहुत सम्भावना थी कि आतंकी संगठन सीरिया सरकार का पतन कर इराक पर क़ब्ज़ा कर लेते, ईरान ने अपने जवानों और सैन्य अफसरों की शहादत देकर विश्व शांति के लिए रचे गए इस बहुत बड़े षड़यंत्र को नाकाम कर दिया ।
विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार रूस की राजधानी मॉस्को के मुफ़्ती ए आज़म अलबैर कोरगानोफ़ ने कहा कि आतंकवाद से मुक़ाबला करने में ईरान ने हमेशा ही सकारत्मक भूमिका निभाई है उसने कभी भी विश्व शक्तियों या क्षेत्रीय देशों की तरह आतंकवाद के विरुद्ध संघर्ष का ढोंग या दोहरा मापदंड नहीं अपनाया है। मुफ़्ती ए आज़म अलबैर कोरगानोफ़ ने कहा कि आतंकवाद से संघर्ष में ईरान की महत्वपूर्ण भूमिका और उसकी सच्चाई का सबसे बड़ा सबूत आतंक से पीड़ित सीरिया और इराक की मदद है जहाँ उसने अपने सैन्य सलाहकारों को भेजकर इन युद्धग्रस्त देशों की सहायता की । उन्होंने कहा कि अगर ईरान इन देशों की सहायता न करता तो इस बात की बहुत सम्भावना थी कि आतंकी संगठन सीरिया सरकार का पतन कर इराक पर क़ब्ज़ा कर लेते, ईरान ने अपने जवानों और सैन्य अफसरों की शहादत देकर विश्व शांति के लिए रचे गए इस बहुत बड़े षड़यंत्र को नाकाम कर दिया । उन्होंने कहा कि इस्लामी इतिहास में हमेशा ही ऐसे लोग रहें हैं जिन्होंने अपने प्राणों का बलिदान कर मानवता की सेवा की है, इस्लामी देशों में जो लोग भी आतंकवादी संगठनों के विरुद्ध संघर्ष में मारे जा रहे हैं वह शहीद हैं और अल्लाह के निकट उनका मर्तबा बहुत बुलंद है ।
.................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची