Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192768
Date of publication : 25/3/2018 18:18
Hit : 943

अमेरिका के जंगी जहाज़ बेचने की अजीब घटना

उस समय ईरान और अमेरिका का एक ज्वाइंट अकाउंट था, मैं जब रक्षा मंत्रालय में ख़िदमत कर रहा था तब यह बात मुझे पता चली थी, फिर मैं F.M.S. नाम की कमेटी गया वहां इसका पता लगाया, जिसका आज तक कोई जवाब नहीं आया, उस ज्वाइंट अकाउंट में ईरानी हुकूमत पैसा जमा तो करती थी लेकिन पैसे निकालने का हक़ केवल अमेरिका का था।
विलायत पोर्टल :  उस समय अमेरिका अपने जंगी जहाज़ और कुछ दूसरे सामान हमारे हाथों बेचा करता था, लेकिन उनके मरम्मत की हमें अनुमति नहीं देता था, हालांकि उसके इस व्यापार के बड़े अजीब अजीब क़िस्से हैं, उस समय ईरान और अमेरिका का एक ज्वाइंट अकाउंट था, मैं जब रक्षा मंत्रालय में ख़िदमत कर रहा था तब यह बात मुझे पता चली थी, फिर मैं F.M.S. नाम की कमेटी गया वहां इसका पता लगाया, जिसका आज तक कोई जवाब नहीं आया, उस ज्वाइंट अकाउंट में ईरानी हुकूमत पैसा जमा तो करती थी लेकिन पैसे निकालने का हक़ केवल अमेरिका का था।
जब इंक़ेलाब कामयाब हुआ तो इस अकाउंट मे अरबों डॉलर थे, आज तक अमेरिका ने न तो हमारी बात का जवाब दिया और न ही वह पैसे लौटाए, और जब उस से ख़रीदे हुए जहाज़ ईरान आते और कुछ समय बाद जब मरम्मत की ज़रूरत पड़ती तो आप क्या सोंचते हैं कि यहां ईरान में कोई मरम्मत की जगह होगी....
बिल्कुल नहीं, जब भी कोई पार्ट ख़राब हो जाता था, उसे खोल कर निकालते (क्योंकि कुछ बड़े पार्ट होते और ख़ुद उसमें कई छोटे छोटे पार्ट होते थे) वह उस पार्ट को यहां खोलने के लिए बिल्कुल भी राज़ी नहीं होते, उस पार्ट को दूसरे जहाज़ से अमेरिका भेजते थे, वहां से वही पार्ट नया ख़रीद कर लाते थे।
हमारी जनता के साथ इस तरह व्यवहार करते थे, आज ईरान उनके जैसा हवाई जहाज़ बना रहा है, तो आज की स्तिथि उस समय से बहुत अलग है।
(12 मार्च 2001 में अमीर कबीर यूनिवर्सिटी के छात्रों के बीच आयतुल्लाह ख़ामेनई का बयान)
...................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची