Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192726
Date of publication : 20/3/2018 11:38
Hit : 151

सीरिया मुद्दे पर सुरक्षा परिषद ने नहीं दिखाई ईमानदारी : संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष ने अपने ग़ैर आधिकारिक बयान में उत्तरी सीरिया के अफरीन में आतंकी संगठन फ्री सीरिया आर्मी और तुर्की की संयुक्त कार्रवाई का उल्लेख करते हुए कहा कि यहाँ आम नागरिकों का जीवन बहुत खतरे में है अफरीन अस्पताल को भी भीषण बमबारी का निशाना बनाया गया वहीँ रक़्क़ा से दाइश के निकल जाने के बाद भी यहाँ आम नागरिकों पर बमबारी होती रही है ।

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार संयुक्त राष्ट्र ने सुरक्षा परिषद द्वारा सीरिया मुद्दे पर दमिश्क़ के साथ हुए भेदभाव को स्वीकारते हुए कहा है कि सुरक्षा परिषद ने इस मुद्दे पर ईमानदारी से काम नहीं लिया । संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष ने अपने ग़ैर आधिकारिक बयान में उत्तरी सीरिया के अफरीन में आतंकी संगठन फ्री सीरिया आर्मी और तुर्की की संयुक्त कार्रवाई का उल्लेख करते हुए कहा कि यहाँ आम नागरिकों का जीवन बहुत खतरे में है अफरीन अस्पताल को भी भीषण बमबारी का निशाना बनाया गया वहीँ रक़्क़ा से दाइश के निकल जाने के बाद भी यहाँ आम नागरिकों पर बमबारी होती रही है । उन्होंने कहा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया संकट में अपने कर्तव्यों का पालन नहीं किया उसने अपनी ज़िम्मेदारी नहीं निभाई और सीरिया में जारी क़त्ले आम को रोकने में कोई भूमिका नहीं निभाई । संयुक्त राष्ट्र के इस उच्चाधिकारी ने मांग की कि सीरिया के अपराधियों को सजा मिलना चाहिए यहाँ क़त्ले आम मचने वालों को अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट में घसीटना ही होगा ।
..................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी ।