Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192522
Date of publication : 10/3/2018 6:25
Hit : 165

वहाबी आतंकी संगठनों को बढ़ावा दे रहा है अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र की भूमिका संदिग्ध : सीरिया

दमिश्क़ ने आतंकियों द्वारा रासायनिक हथियारों के प्रयोग को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ के साथ साथ सुरक्षा परिषद् और OPCW को 140 पत्र लिखे हैं जिसमें हमने आतंकियों को उनके समर्थक देशों द्वारा रासायनिक हथियार उपलब्ध कराने के बारे में सबूत पेश किए थे ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार संयुक्त राष्ट्र में सीरिया के स्थायी दूत बश्शार जाफरी ने कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगी देश सीरिया में क़त्ले आम मचा रहे आतंकी सगठनों को हर प्रकार सहायता उपलब्ध करा रहे हैं । बश्शार जाफरी ने कहा कि सीरिया में दमिश्क़ सरकार की ओर से रासायनिक हथियारों के उपयोग की बातें सिर्फ और सिर्फ वहाबी आतंकी संगठनों को सहायता पहुँचाने के लिए फैलाई जा रही हैं वह समय समय पर यह प्रोपगंडा कर सीरियन सेना का अभियान रोकने का प्रयास करते रहे हैं । बश्शार जाफरी ने कहा कि दमिश्क़ ने आतंकियों द्वारा रासायनिक हथियारों के प्रयोग को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ के साथ साथ सुरक्षा परिषद् और OPCW को 140 पत्र लिखे हैं जिसमें हमने आतंकियों को उनके समर्थक देशों द्वारा रासायनिक हथियार उपलब्ध कराने के बारे में सबूत पेश किए थे । उन्होंने कहा कि सऊदी अरब समेत क़तर , और खाड़ी के कई अन्य देश आतंकियों को समर्थन देते रहे हैं तथा वह सीरिया संकट के असली खलनायक हैं , बश्शार ने कहा कि सीरिया के खिलाफ आतंकी कार्रवाईयों में में तुर्की भी बराबर का भागीदार है उसने अपनी सीमाएँ आतंकियों के लिए खुली छोड़ दीं, तथा उनके लिए सैन्य ट्रेनिंग एवं रासायनिक हथियारों समेत अन्य सुविधाएँ उपलब्ध कराता रहा । उन्होंने अफरीन में तुर्की के अतिक्रमण को लेकर कहा कि सीरिया अपनी एक एक इंच ज़मीन की रक्षा करेगा चाहे मुक़ाबले पर आतंकी संगठन हों या तुर्की या अमेरिका और इस्राईल ।
 ............................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....