Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 192202
Date of publication : 22/2/2018 16:0
Hit : 296

हिज़्बुल्लाह और इराकी स्वंयसेवी बलों का गठबंधन, दहशत में इस्राईल ।

इस्राईल टाइम्स के अनुसार हिज़्बुल्लाह के दिवंगत कमांडर शहीद एमाद मुग़निया की शहादत के अवसर पर लेबनान आए अकरम ने यक़ीन दिलाया है कि इस्राईल से युद्ध की अवस्था में इराकी प्रतिरोधी बल हिज़्बुल्लाह के जवानों के साथ कंधे से कन्धा मिलकर लड़ेंगे ।
विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार ज़ायोनी समाचार पत्र इस्राईल टाइम्स ने हिज़्बुल्लाह लेबनान और इराकी स्वंयसेवी बल नोजबा के बीच मधुर रिश्तों का उल्लेख करते हुए कहा कि इराक की शक्तिशाली नोजबा मूवमेंट के नेता शैख़ अकरम अल काबी ने कहा है कि अवैध राष्ट्र से किसी भी युद्ध की अवस्था में नोजबा मूवमेंट के लड़ाके हिज़्बुल्लाह के साथ युद्ध क्षेत्र में मौजूद होंगे । इस्राईल टाइम्स के अनुसार हिज़्बुल्लाह के दिवंगत कमांडर शहीद एमाद मुग़निया की शहादत के अवसर पर लेबनान आए अकरम ने यक़ीन दिलाया है कि इस्राईल से युद्ध की अवस्था में इराकी प्रतिरोधी बल हिज़्बुल्लाह के जवानों के साथ कंधे से कन्धा मिलकर लड़ेंगे । सूत्रों के अनुसार शैख़ अकरम ने शहीद एमाद मुग़निया की क़ब्र पर वादा किया है कि इराकी जवान हिज़्बुल्लाह के साथ हैं उन्होंने कहा कि जिस प्रकार हम सीरिया और इराक में एक मोर्चे पर साथ साथ लड़ते रहे इसी प्रकार अवैध राष्ट्र के खिलाफ भी जंग मे एक साथ भाग लेंगे ।
 ...............


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार ।