Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191991
Date of publication : 10/2/2018 15:42
Hit : 337

ईरान का स्वतंत्रता दिवस इमाम ख़ुमैनी र.ह. की निगाह में

हमें पूरी आज़ादी तभी हासिल होगी जब इस्लाम और उसके अहकाम पर पूरी तरह से पूरे ईरान में अमल हो क्योंकि इस्लाम ही सारी इंसानियत के लिए सआदत का स्रोत है।

विलायत पोर्टल : 11 फ़रवरी ईरान में स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है, जिस दिन 1979 ईरान में इस्लामी क्रांति कामयाब हुई और ईरान की जनता ने इमाम ख़ुमैनी र.ह. के नेतृत्व में अमेरिका के इशारों पर नाचने वाले तानाशाह की सत्ता को उखाड़ फेका।
इस छोटे से लेख में इमाम ख़ुमैनी र.ह. द्वारा इस दिन की अहमियत और ईरानी स्वतंत्रता दिवस के बारे में उनके कुछ जुमले पेश किए जा रहे हैं।
हमें पूरी आज़ादी तभी हासिल होगी जब इस्लाम और उसके अहकाम पर पूरी तरह से पूरे ईरान में अमल हो क्योंकि इस्लाम ही सारी इंसानियत के लिए सआदत का स्रोत है।
आज़ादी को बचाना आज़ादी दिलाने से अधिक कठिन है।
ईरान का इस्लामी इंक़ेलाब पूरे ईरान की जनता की मेहनत का नतीजा है।
इस कामयाबी का मुझ से कोई संबंध नहीं है, मैं एक मामूली सा छात्र हूं इसलिए इस कामयाबी का सेहरा मेरे सर न बांधें, और इस कामयाबी का जनता से भी कोई संबंध नहीं है बल्कि इस कामयाबी का पूरा श्रेय अल्लाह को जाता है।
हमें इस इंक़ेलाब की कामयाबी इस्लाम की बरकत से हासिल हुई और अल्लाहो अकबर के नारे से हम ने तानाशाह को इस देश से बाहर निकाल दिया।
जब तक आपकी आत्मा उस ताक़त और पावर के स्रोत (अल्लाह) से जुड़ी रहेगी तब तक आप कामयाब रहिएगा।
कामयाबी किसी देश पर क़ब्ज़ा या किसी देश को किसी तानाशाह से ख़ाली करवाना नहीं है बल्कि कामयाबी यह है कि अल्लाह की रहमत और मेहरबानी आप पर हो। आप कामयाब केवल इसलिए हुए क्योंकि अल्लाह आपके साथ है और आपकी हिफ़ाज़त कर रहा है।
अगर पूरी दुनिया हमारे विरुध्द खड़ी हो जाए और सब मिल कर हमें मिटा भी डालें फिर भी कामयाब हम ही होंगे।
हम किसी से नहीं डरते क्योंकि हम हक़ पर हैं, और जब तक हक़ पर हैं तो जीतें या हारें हक़ वाले ही कहलाएंगे। हमें हार का कोई डर नहीं है, पहली बात हम कभी नहीं हार सकते क्योंकि अल्लाह हमारे साथ है, और अगर ज़ाहिर में हार भी गए तब भी मानवी और नैतिक रूप से हम कभी नहीं हार सकते क्योंकि नैतिक और मानवी जीत इस्लाम और मुसलमानों ही के साथ है।
आप लोग हक़ पर हैं और बातिल के मुक़ाबले पर खड़े हैं, और जीत हमेशा हक़ ही की होती है। वह देश जिसके हर वर्ग के लोग बलिदान के लिए तैयार हों वह देश हमेशा कामयाब रहेगा।
आप हक़ पर हैं और बातिल से मुक़ाबले के लिए डटे हैं जिसके लिए बहादुरी और सहनशीलता दोनों की ज़रूरत है अगर यह दोनों न हों आप को कभी निर्णायक जीत हासिल होगी। हम लोगों ने ख़ाली हाथ इन सभी साम्राज्यवादी शैतानी ताक़तों पर जीत हासिल की है।
जीत तलवार और असलहों से नहीं इरादे, हौसले और खून दे कर हासिल की जाती है। हम सारी दुनिया को यह बताना चाहते हैं कि साम्राज्यवादी ताक़तों को भी धूल चटाई जा सकती है अगर ईमान में मज़बूती पाई जाए।
जिस जनता और राष्ट्र के सपोर्ट में ख़ुद अल्लाह हो उसको कोई हरा नहीं सकता।
अगर हमारा मक़सद ख़ुदा के लिए जीत हासिल करना है तो फिर उसे कोई रोक नहीं सकता।
इस्लामी नैतिकता आपकी ताक़त है जिसके कारण आप एक पापी और अपराधी का तख़्ता पलट कर इस्लामी हुकूमत को लाए हैं।
मेरे भाईयों केवल ईमान की ताक़त है जिसके नतीजे में आपको इतनी बड़ी कामयाबी मिली है।
...........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अरब शासकों को ट्रम्प का आदेश, दमिश्क़ से संबंध सुधारो। इस्राईल के हमले नहीं रुके तो दमिश्क़ तल अवीव एयरपोर्ट को निशाना बनाने के लिए तैयार : बश्शार क़ुद्स को राजधानी बना कर अलग फ़िलिस्तीन राष्ट्र का गठन हो : चीन अय्याश सऊदी युवराज बिन सलमान ने माँ के बाद अब अपने भाई को बंदी बनाया। क़ासिम सुलेमानी के आदेश पर सीरिया ने इस्राईल पर मिसाइल दाग़े : ज़ायोनी मीडिया यूरोपीय यूनियन के ख़िलाफ़ बश्शार असद का बड़ा क़दम, राजनयिकों का विशेष वीज़ा किया रद्द। अमेरिकी सेना ने माना, इराक युद्ध का एकमात्र विजेता है ईरान । बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला।