Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191191
Date of publication : 28/12/2017 17:59
Hit : 245

मिडिल ईस्ट को लेकर अमेरिका क्यों है इतना हताश और परेशान ?

अमेरिका इराक़ में जन्म लेने वाली इस्लामी जागरूकता की लहर की वजह भयभीत है, इसी जागरूकता के कारण इलाक़े के समीकरण अमेरिका के विपरीत ईरान के हितों में बदल गए हैं। जार्ज फ़्रेडमैन ने लिखा कि अमेरिका इराक़ की स्थिति के अनुसार खुद को ढ़ाल नहीं कर पा रहा है


विलायत पोर्टल :  पश्चिमी एशिया में जो स्थिति पनप रही है वह वास्तव में प्रभाव की उस लड़ाई का नतीजा है जो कई वर्षों से इस्लामी गणतंत्र ईरान के नेतृत्व में इस्लामी प्रतिरोधी ब्लाक और अमेरिका के बीच जारी है। वैसे तो यह लड़ाई पिछले लगभग चालीस साल से जारी है लेकिन हालिया दस वर्षों में यह लड़ाई अधिक जटिल और व्यापक हो चली है। वर्तमान परिस्थितियां दो परिवर्तनों को रेखांकित करती हैं। एक तो अमेरिका की गिरती साख़ और उसके प्रभाव मे कमी तथा दूसरी ओर ईरान की शक्ति और प्रभाव में बेतहाशा बढोत्तरी ।
बहुत से विश्लेषकों का मानना है कि अमेरिका इलाक़े में ईरान के मुक़ाबले में बुरी तरह उलझाव और शिकार है, इसी लिए उसको लगातार विफलताओं का सामना करना पड़ रहा है। वरिष्ठ विशलेषक माइकल यांग ने दि नेशनल इंस्टीट्यूट की वेबसाइट पर प्रकाशित होने वाले अपने लेख में लिखा है कि अमेरिका के पास इलाक़े में ईरान के प्रभाव का मुक़ाबला करने के लिए कोई रणनीति ही नहीं है। जार्ज फ़्रेडमैन इस बात पर ज़ोर देते हुए लिखते हैं कि अमेरिका इराक़ में जन्म लेने वाली इस्लामी जागरूकता की लहर की वजह भयभीत है, इसी जागरूकता के कारण इलाक़े के समीकरण अमेरिका के विपरीत ईरान के हितों में बदल गए हैं। जार्ज फ़्रेडमैन ने लिखा कि अमेरिका इराक़ की स्थिति के अनुसार खुद को ढ़ाल नहीं कर पा रहा है। अमेरिकी नीतियों के चलते दाइश अस्तित्व में आया इस समस्या ने ख़ुद भी ईरान के लिए इलाक़े के दरवाज़े पूरी तरह खोल दिए। वाशिंग्टन ईरान की परमाणु शक्ति में ही उलझा रहा जबकि वह इस हक़ीक़त से अनभिज्ञ रहा कि ईरान का राजनैतिक प्रभाव उसकी परमाणु शक्ति से अधिक महत्वपूर्ण है।
सेंट एंथोनी कालेज के शरमेन नरवानी ने हाल ही में एक कालम में लिखा कि अब जबकि 2017 समाप्त होने वाला है तो सीरिया युद्ध में शामिल देश यहाँ न्यू आर्डर की स्थापना की ओर बढ़ रहे हैं लेकिन अमेरिका का इसमे कोई स्थान नहीं है। पश्चिमी एशिया में जारी बदलाव ईरान के बढ़ते प्रभाव पर आधारित है। क्षेत्रीय संकटों के समाधान में ईरान की प्रभावी भूमिका को देखते हुए बहुत से पश्चिमी स्ट्रैटेजिस्ट भी इसे ईरान के उदय का समय मान रहे हैं,और दुनिया की कोई भी ताक़त ईरान को पीछे हटाने की क्षमता नहीं रखती। जार्ज फ़्रेडमैन ने हाफ़िंग्टन पोस्ट के लिए “ईरान मध्यपूर्व को नया रूप दे रहा है” शीर्षक से एक लेख लिखा है इस लेख में फ़्रेडमैन कहते है कि मध्यपूर्व एक नया और पूरी तरह से भिन्न रूप प्राप्त कर चुका है। ईरान के बढ़ते प्रभाव पर ध्यान केन्द्रित करने की ज़रूरत है।
..........................
iuvm


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इमाम हसन असकरी अ.स. की ज़िंदगी पर एक निगाह अमेरिका का युग बीत गया, पश्चिम एशिया से विदाई की तैयारी कर ले : मेजर जनरल मूसवी सऊदी अरब ने यमन के आगे घुटने टेके, हुदैदाह पर हमले रोकने की घोषणा। ईरान को दमिश्क़ से निकालने के लिए रूस को मनाने का प्रयास करेंगे : अमेरिका आईएसआईएस आतंकियों का क़ब्रिस्तान बना पूर्वी दमिश्क़ का रेगिस्तान,30 आतंकी हलाक ग़ज़्ज़ा, प्रतिरोधी दलों ने ट्रम्प की सेंचुरी डील की हवा निकाली : हिज़्बुल्लाह सऊदी ने स्वीकारी ख़ाशुक़जी को टुकड़े टुकड़े करने की बात । आईएसआईएस समर्थक अमेरिकी गठबंधन ने दैरुज़्ज़ोर पर प्रतिबंधित क्लिस्टर्स बम बरसाए । अवैध राष्ट्र में हलचल, लिबरमैन के बाद आप्रवासी मामलों की मंत्री ने दिया इस्तीफ़ा फ़्रांस और अमेरिका की ज़ुबानी जंग तेज़, ग़ुलाम नहीं हैं हम, सभ्यता से पेश आएं ट्रम्प : मैक्रोन बीवी क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो ज़ायोनी युद्ध मंत्री लिबरमैन का इस्तीफ़ा, ग़ज़्ज़ा की राजनैतिक जीत : हमास अमेरिका की चीन को धमकी, हमारी मांगे नहीं मानी तो शीत युद्ध के लिए रहो तैयार देश को मुश्किलों से उभारना है तो राष्ट्रीय क्षमताओं का सही उपयोग करना होगा : आयतुल्लाह ख़ामेनई अय्याश सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान है ग़ज़्ज़ा पर वहशियाना हमलों का मास्टर माइंड : मिडिल ईस्ट आई