Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191159
Date of publication : 27/12/2017 4:4
Hit : 498

घुटन के माहौल में इमाम हसन असकरी अ.स. की अहम गतिविधियां

इमाम हसन असकरी अ.स. ने अपने बा बरकत जीवन और इतनी कम उम्र में हर तरह की कठिनाई, परेशानी, सख़्ती होने और अब्बासी हुकूमत की ओर से आप पर कड़ी निगरानी के बावजूद इस्लाम और उसकी तालीमात को उसकी असली सूरत में बाक़ी रखा। आपकी इस्लाम सेवा, इस्लाम विरोधी विचारों को कुचलने के प्रयास और उस घुटन के माहौल में आपकी गतिविधियां सराहनीय हैं,

विलायत पोर्टल : इमाम अली नक़ी अ.स. ने कुछ रिवायतों के हिसाब से 8 और कुछ रिवायतों के हिसाब से 10 रबीउस्सानी सन् 232 हिज्री को पैदा होने वाले अपने बेटे का नाम पैग़म्बर स.अ. के बड़े नवासे और जन्नत के सरदार इमाम हसन अ.स. के नाम पर हसन रखा और आपकी कुन्नित अबू मोहम्मद रखी। इमाम हसन असकरी अ.स. ने 254 हिज्री में अपने वालिद की शहादत के बाद 22 साल की उम्र में इमामत की ज़िम्मेदारी को संभाला, आप ने 6 साल तक लोगों की हिदायत और घुटन के माहौल में उनका मार्गदर्शन करते रहे, और मोतमद की मक्कारी के चलते 8 रबीउस्सानी 265 सन् हिज्री में केवल 28 साल की उम्र में आपको शहीद कर दिया गया, आपकी क़ब्र इराक़ के सामरा नामी शहर में है।
इमाम हसन असकरी अ.स. ने अपने बा बरकत जीवन और इतनी कम उम्र में हर तरह की कठिनाई, परेशानी, सख़्ती होने और अब्बासी हुकूमत की ओर से आप पर कड़ी निगरानी के बावजूद इस्लाम और उसकी तालीमात को उसकी असली सूरत में बाक़ी रखा। आपकी इस्लाम सेवा, इस्लाम विरोधी विचारों को कुचलने के प्रयास और उस घुटन के माहौल में आपकी गतिविधियां सराहनीय हैं, जिनमें से अहम गतिविधियों को हम यहां पर बयान कर रहे हैं।
1. इस्लाम और शरीयत की रक्षा करते हुए उस पर संदेह जताने वालों को जवाब देना और उनके लिए इस्लाम के सही विचारों को पेश करना।
2. अलग अलग जगहों पर रहने वाले अपने शियों से अलग अलग तरह से संबंध बनाए रखना और अपने वकीलों और कुछ विशेष लोगों द्वारा ज़रूरत के समय उन तक अपना संदेश पहुंचाना।
3. हर तरह की कड़ी निगरानी और हुकूमत की देख रेख के बावजूद सियासी मामलों पर नज़र बनाए रखना और समय और शियों का ज़रूरत को देखते हुए उन्हें ख़तरों और उस से बचने के तरीक़ों से आगाह करना।
4. अपने शियों की विशेष कर अपने सहाबियों की आर्थिक तथा दूसरी प्रकार की सहायता करना।
5. कठिन राजनीतिक परिस्तिथियों में शियों की मदद करना
6. इमामत के इंकार करने वालों को ग़ैब की मालूमात से फ़ायदा हासिल करते हुए मुंह तोड़ जवाब दे कर शियों में जोश पैदा करना
7. और सबसे अहम, शियों को अपने बेटे की ग़ैबत के लिए मानसिक तौर से तैय्यार करना। इमाम हसन असकरी अ.स. द्वारा यह अहम काम विशेष कर उस दौर में किए गए जब आख़िरी इमाम अ.स. की ग़ैबत का समय शुरू होने वाला था, तभी इमाम अ.स. ने अपने चाहने वालों को पैग़ाम दिया कि उन से सीधे मुलाक़ात के बजाए उनके वकीलों से मुलाक़ात कर के अपने सवाल और अपनी ज़रूरतें इमाम अ.स. तक पहुंचाएं ताकि धीरे धीरे लोगों के दिमाग़ में वकालत की अहमियत रौशन हो जाए। तारीख़ गवाह है कि वह ऐसा दौर था जिसमें वकीलों से खुलेआम मुलाक़ात भी आसान नहीं थी, क़दम क़दम पर हुकूमत के जासूस लगे हुए थे, इसीलिए इमाम अ.स. के वकील कभी तेल के कारोबार तो कभी किसी और तरीक़े से इमाम अ.स. के शियों से मिलते और उनकी बातों और ज़रूरतों को इमाम अ.स. तक पहुंचाते।
....................................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला। अमेरिका में गहराता शटडाउन संकट, लोगों को बेचना पड़ रहा है घर का सामान । हसन नसरुल्लाह ने इस्राईली मीडिया को खिलौना बना दिया, हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटजी के आगे ज़ायोनी मीडिया फेल । रूस और ईरान के दुश्मन आईएसआईएस को मिटाना ग़लत क़दम होगा : ट्रम्प फ़िलिस्तीनी जनता के ख़ून से रंगे हैं हॉलीवुड सितारों के हाथ इदलिब और हलब में युद्ध की आहट, सीरियन टाइगर अपनी विशेष फोर्स के साथ मोर्चे पर पहुंचे । देश छोड़ कर भाग रहे हैं सऊदी नागरिक , शरण मांगने वालों के संख्या में 318% बढ़ोत्तरी । इराक सेना अलर्ट पर किसी भी समय सीरिया में छेड़ सकती है सैन्य अभियान ।