Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191159
Date of publication : 27/12/2017 4:4
Hit : 470

घुटन के माहौल में इमाम हसन असकरी अ.स. की अहम गतिविधियां

इमाम हसन असकरी अ.स. ने अपने बा बरकत जीवन और इतनी कम उम्र में हर तरह की कठिनाई, परेशानी, सख़्ती होने और अब्बासी हुकूमत की ओर से आप पर कड़ी निगरानी के बावजूद इस्लाम और उसकी तालीमात को उसकी असली सूरत में बाक़ी रखा। आपकी इस्लाम सेवा, इस्लाम विरोधी विचारों को कुचलने के प्रयास और उस घुटन के माहौल में आपकी गतिविधियां सराहनीय हैं,


विलायत पोर्टल : इमाम अली नक़ी अ.स. ने कुछ रिवायतों के हिसाब से 8 और कुछ रिवायतों के हिसाब से 10 रबीउस्सानी सन् 232 हिज्री को पैदा होने वाले अपने बेटे का नाम पैग़म्बर स.अ. के बड़े नवासे और जन्नत के सरदार इमाम हसन अ.स. के नाम पर हसन रखा और आपकी कुन्नित अबू मोहम्मद रखी। इमाम हसन असकरी अ.स. ने 254 हिज्री में अपने वालिद की शहादत के बाद 22 साल की उम्र में इमामत की ज़िम्मेदारी को संभाला, आप ने 6 साल तक लोगों की हिदायत और घुटन के माहौल में उनका मार्गदर्शन करते रहे, और मोतमद की मक्कारी के चलते 8 रबीउस्सानी 265 सन् हिज्री में केवल 28 साल की उम्र में आपको शहीद कर दिया गया, आपकी क़ब्र इराक़ के सामरा नामी शहर में है।
इमाम हसन असकरी अ.स. ने अपने बा बरकत जीवन और इतनी कम उम्र में हर तरह की कठिनाई, परेशानी, सख़्ती होने और अब्बासी हुकूमत की ओर से आप पर कड़ी निगरानी के बावजूद इस्लाम और उसकी तालीमात को उसकी असली सूरत में बाक़ी रखा। आपकी इस्लाम सेवा, इस्लाम विरोधी विचारों को कुचलने के प्रयास और उस घुटन के माहौल में आपकी गतिविधियां सराहनीय हैं, जिनमें से अहम गतिविधियों को हम यहां पर बयान कर रहे हैं।
1. इस्लाम और शरीयत की रक्षा करते हुए उस पर संदेह जताने वालों को जवाब देना और उनके लिए इस्लाम के सही विचारों को पेश करना।
2. अलग अलग जगहों पर रहने वाले अपने शियों से अलग अलग तरह से संबंध बनाए रखना और अपने वकीलों और कुछ विशेष लोगों द्वारा ज़रूरत के समय उन तक अपना संदेश पहुंचाना।
3. हर तरह की कड़ी निगरानी और हुकूमत की देख रेख के बावजूद सियासी मामलों पर नज़र बनाए रखना और समय और शियों का ज़रूरत को देखते हुए उन्हें ख़तरों और उस से बचने के तरीक़ों से आगाह करना।
4. अपने शियों की विशेष कर अपने सहाबियों की आर्थिक तथा दूसरी प्रकार की सहायता करना।
5. कठिन राजनीतिक परिस्तिथियों में शियों की मदद करना
6. इमामत के इंकार करने वालों को ग़ैब की मालूमात से फ़ायदा हासिल करते हुए मुंह तोड़ जवाब दे कर शियों में जोश पैदा करना
7. और सबसे अहम, शियों को अपने बेटे की ग़ैबत के लिए मानसिक तौर से तैय्यार करना। इमाम हसन असकरी अ.स. द्वारा यह अहम काम विशेष कर उस दौर में किए गए जब आख़िरी इमाम अ.स. की ग़ैबत का समय शुरू होने वाला था, तभी इमाम अ.स. ने अपने चाहने वालों को पैग़ाम दिया कि उन से सीधे मुलाक़ात के बजाए उनके वकीलों से मुलाक़ात कर के अपने सवाल और अपनी ज़रूरतें इमाम अ.स. तक पहुंचाएं ताकि धीरे धीरे लोगों के दिमाग़ में वकालत की अहमियत रौशन हो जाए। तारीख़ गवाह है कि वह ऐसा दौर था जिसमें वकीलों से खुलेआम मुलाक़ात भी आसान नहीं थी, क़दम क़दम पर हुकूमत के जासूस लगे हुए थे, इसीलिए इमाम अ.स. के वकील कभी तेल के कारोबार तो कभी किसी और तरीक़े से इमाम अ.स. के शियों से मिलते और उनकी बातों और ज़रूरतों को इमाम अ.स. तक पहुंचाते।
....................................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इमाम हसन असकरी अ.स. की ज़िंदगी पर एक निगाह अमेरिका का युग बीत गया, पश्चिम एशिया से विदाई की तैयारी कर ले : मेजर जनरल मूसवी सऊदी अरब ने यमन के आगे घुटने टेके, हुदैदाह पर हमले रोकने की घोषणा। ईरान को दमिश्क़ से निकालने के लिए रूस को मनाने का प्रयास करेंगे : अमेरिका आईएसआईएस आतंकियों का क़ब्रिस्तान बना पूर्वी दमिश्क़ का रेगिस्तान,30 आतंकी हलाक ग़ज़्ज़ा, प्रतिरोधी दलों ने ट्रम्प की सेंचुरी डील की हवा निकाली : हिज़्बुल्लाह सऊदी ने स्वीकारी ख़ाशुक़जी को टुकड़े टुकड़े करने की बात । आईएसआईएस समर्थक अमेरिकी गठबंधन ने दैरुज़्ज़ोर पर प्रतिबंधित क्लिस्टर्स बम बरसाए । अवैध राष्ट्र में हलचल, लिबरमैन के बाद आप्रवासी मामलों की मंत्री ने दिया इस्तीफ़ा फ़्रांस और अमेरिका की ज़ुबानी जंग तेज़, ग़ुलाम नहीं हैं हम, सभ्यता से पेश आएं ट्रम्प : मैक्रोन बीवी क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो ज़ायोनी युद्ध मंत्री लिबरमैन का इस्तीफ़ा, ग़ज़्ज़ा की राजनैतिक जीत : हमास अमेरिका की चीन को धमकी, हमारी मांगे नहीं मानी तो शीत युद्ध के लिए रहो तैयार देश को मुश्किलों से उभारना है तो राष्ट्रीय क्षमताओं का सही उपयोग करना होगा : आयतुल्लाह ख़ामेनई अय्याश सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान है ग़ज़्ज़ा पर वहशियाना हमलों का मास्टर माइंड : मिडिल ईस्ट आई