Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 191060
Date of publication : 21/12/2017 7:2
Hit : 605

प्रतिरोध ही है सफलता का एकमात्र रास्ता : आयतुल्लाह ख़ामेनई

अगर यह आंदोलन अल्लाह पर ईमान और भरोसे के साथ होगा तो अवश्य आगे बढ़ेगा , मैं इसी लिए कह रहा हूँ और बार बार कहता हूँ कि अगर आंदोलन और प्रतिरोध के साथ साथ अल्लाह पर ईमान और भरोसा होगा तो सफलता ज़रूर मिलेगी । इस भरोसे और आस्था का मतलब आधा अधूरा ईमान नहीं है बल्कि वह पूरा ईमान है जो इस्लाम चाहता है, अगर ऐसा हुआ तो तभी अल्लाह का वह वादा पूरा होगा कि प्रकृति और इतिहास के सारे क़ानून तुम्हारे पीछे पीछे चलेंगे

विलायत पोर्टल :  हिज़्बुल्लाह और अवैध ज़ायोनी राष्ट्र के बीच चलने वाले 33 दिवसीय युद्ध में हिज़्बुल्लाह की कामयाबी और अवैध राष्ट्र की हार वास्तव में एक बहुत बड़ी घटना है जिस में सीख देने वाली बहुत से बातें हैं ।
दुश्मन चाहे न चाहे लेकिन लोग इस युद्ध से बहुत कुछ सीखेंगे , इराक़ियों , फिलिस्तीनियों और अन्य सब लोगों ने देखा कि कामयाबी पाने का रास्ता अपने मिशन पर डटे रहना है , दूसरा और कोई रास्ता नहीं है , कामयाबी मिलेगी चाहे प्रतिरोध करने वाला दल बहुत छोटा सा ही क्यों न हो और उसके मुक़ाबले पर दुनिया की कोई बड़ी फ़ौज ही क्यों न हो जिसकी सहायता अमेरिका या कोई और भी कर रहा हो, यह खुदा का बनाया हुआ अटल क़ानून है जो भी इस पर अमल करेगा कामयाब हो जायेगा । प्रतिरोध कामयाबी दिलाने वाला हथियार है, जो लोग इस रास्ते पर चलते हैं उन्हें इस रास्ते में आने वाले खतरों से नहीं डरना चाहिए , अगर वह डर गये तो उनका प्रतिरोध और आंदोलन कमज़ोर पड़ जायेगा और कामयाबी नहीं मिल पायेगी ।
बहुत से आंदोलन इस लिए इतिहास के काले पन्नों में खो गये क्योंकि वह रास्ते के खतरों से डर गये थे, जो समाज प्रतिरोध दिखाना चाहते हैं अगर वह दुनिया के सुख और सुविधाओं को भूलाकर आगे बढ़ते रहें तो इस बात में कोई संदेह नहीं है कि आंदोलन और प्रतिरोध अवश्य सफल होगा, और अगर यह आंदोलन अल्लाह पर ईमान और भरोसे के साथ होगा तो अवश्य आगे बढ़ेगा , मैं इसी लिए कह रहा हूँ और बार बार कहता हूँ कि अगर आंदोलन और प्रतिरोध के साथ साथ अल्लाह पर ईमान और भरोसा होगा तो सफलता ज़रूर मिलेगी ।
इस भरोसे और आस्था का मतलब आधा अधूरा ईमान नहीं है बल्कि वह पूरा ईमान है जो इस्लाम चाहता है, अगर ऐसा हुआ तो तभी अल्लाह का वह वादा पूरा होगा कि प्रकृति और इतिहास के सारे क़ानून तुम्हारे पीछे पीछे चलेंगे,
مَنْ کانَ يُريدُ الْعاجِلَةَ عَجَّلْنا لَهُ فيها ما نَشاءُ لِمَنْ نُريدُ
सूरए इस्रा , आयत 18
जो भी दुनिया का चाहने वाला है हम उसके लिए जल्दी ही जो चाहते हैं दे देते हैं.
क़ुर्आन की यह आयत उन लोगों के बारे में हैं जो दुनिया में डूबे हुए हैं लेकिन चूंकि उनके पास हिम्मत और इरादा है तो खुदा उन्हें वह सब दे देता है जो वह मांगते हैं और जो लोग दीन को पाना चाहते हैं उनके साथ भी वैसा ही होता है ।
كُلًّا نُمِدُّ هَٰؤُلَاءِ وَهَٰؤُلَاءِ مِنْ عَطَاءِ رَبِّكَ
सूरए इस्रा, आयत 20
हम आपके पालने वाले की मदद से इनकी और उनकी दोनों की मदद करते हैं .
क्योंकि यही अल्लाह का क़ानून है ।
........................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हश्दुश शअबी का आरोप , आईएसआईएस को इराकी बलों की गोपनीय जानकारी पहुंचाता था अमेरिका ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना । बैतुल मुक़द्दस से उठने वाली अज़ान की आवाज़ पर लगेगी पाबंदी । दमिश्क़ की ओर पलट रहे हैं अरब देश, इस्राईल हारा हुआ जुआरी : ज़ायोनी टीवी शहीद बाक़िर अल निम्र, वह शेर मर्द जिसका नाम सुनकर आज भी लरज़ जाते हैं आले सऊद बश्शार असद की हत्या ज़ायोनी चीफ ऑफ स्टाफ की पहली प्राथमिकता ? यमन के सक़तरी द्वीप पर संयुक्त अरब अमीरात की नज़र क़तर के पूर्व नेता का सवाल, सऊदी अरब में कोई बुद्धिमान है जो सोच विचार कर सके ? अंसारुल्लाह का आरोप , यमन के लिए दूषित भोजन खरीद रहा है डब्ल्यू.एच.पी