Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190891
Date of publication : 13/12/2017 19:26
Hit : 253

तल अवीव गये बहरैनी दल पर चले मुक़दमा : मुक़्तदा सद्र

“यह बहरैन है” नाम से 24 सद्स्यीय बहरैनी दल आले खलीफा तानाशाही के निर्देश पर तल अवीव की यात्रा पर गया था जिसका अवैध राष्ट्र ने खुले दिल से स्वागत करते हुए कहा कि था कि आले खलीफा ने अवैध राष्ट्र की नाकाबंदी तोड़ने का काम किया है ।


विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार इराक के सद्र मूवमेंट के नेता एवं शिया धर्मगुरु मुक़्तदा सद्र ने कहा है कि ट्रम्प द्वारा क़ुद्स को अवैध राष्ट्र की राजधानी घोषित किये जाने के उपरांत भी अवैध राष्ट्र की यात्रा पर गए दल पर अल्लाह की लानत हो उन पर कड़ाई से मुक़दमा चलाया जाये । ज्ञात रहे कि “यह बहरैन है” नाम से 24 सद्स्यीय बहरैनी दल आले खलीफा तानाशाही के निर्देश पर तल अवीव की यात्रा पर गया था जिसका अवैध राष्ट्र ने खुले दिल से स्वागत करते हुए कहा कि था कि आले खलीफा ने अवैध राष्ट्र की नाकाबंदी तोड़ने का काम किया है ।
,................
अलआलम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अमेरिका यमन युद्ध के नाम पर सऊदी अरब से वसूली को तैयार सऊदी अरब का युवराज मोहम्मद बिन सलमान है जमाल ख़ाशुक़जी का हत्यारा : निक्की हैली अमेरिका में पढ़ने वाले ईरानी अधिकारियों के बच्चों को निकालेगा वाशिंगटन दमिश्क़ का ऐलान,अपना उपग्रह लांच करने के लिए तैयार है सीरिया । ख़ाशुक़जी कांड से हमारा कोई संबंध नहीं , सेंचुरी डील पर ध्यान केंद्रित : जॉर्ड किश्नर हिज़्बुल्लाह - इस्राईल तनाव, लेबनान ने अवैध राष्ट्र सीमा पर सेना तैनात की । सेना की संभावित कार्रवाई से नुस्राह फ्रंट में दहशत, बु कमाल में मिली सामूहिक क़ब्रें आले सऊद और अरब शासकों को उलमा का कड़ा संदेश, इस्राईल से संबंधों को बताया हराम इस्राईल से मधुर संबंधों की होड़ लेकिन क़तर से संबंध सामान्य न करने पर ज़ोर ! काबे के सेवक इस्लाम दुश्मनों से दोस्ती और मुसलमानों से दुश्मनी न करें : आयतुल्लाह ख़ामेनई ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी हिज़्बुल्लाह के साथ खड़ा है लेबनान का क्रिश्चियन समाज : इलियास मुर्र ओमान के आसमान में उड़ान भरेंगे इस्राईल के विमान ज़ायोनी आतंक, पोस्टर लगा कर दी फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति की हत्या की सुपारी । महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में