नवीनतम लेख

रूस के कड़े तेवर, एकध्रुवीय दुनिया का सपना देखना छोड़ दे अमेरिका आले सऊद ने अमेरिका के आदेश पर ख़ाशुक़जी के क़त्ल की बात स्वीकारी : मुजतहिद जमाल ख़ाशुक़जी हत्याकांड में ट्रम्प के दामाद की भूमिका की जांच हो साम्राज्यवाद के मुक़ाबले पर डटा ईरान और ग़ुलामी करते मुस्लिम देशों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ : फहवी हुसैन ईरान के खिलाफ सर जोड़ कर बैठे सऊदी अरब और इस्राईल इमाम हुसैन के ज़ायरीन पर हमले की साज़िश विफल अमेरिकी आतंक, अमेरिकी सेना ने दैरुज़्ज़ोर में 60 लोगों को मौत के घाट उतारा हत्यारी टीम को ही नहीं क़त्ल के आदेश देने वाले को भी मिले कड़ी सजा : तुर्की सऊदी पत्रकार संघ अरबईन बिलियन मार्च, नजफ़े अशरफ से हैदरिया तक चप्पे चप्पे पर हश्दुश शअबी की निगरानी हिज़्बुल्लाह हर स्थिति का सामना करने को तैयार, धमकियों का ज़माना बीत गया : हसन नसरुल्लाह बहरैन, आले खलीफा ने एक बार फिर लगाए क़तर और ईरान पर बेबुनियाद आरोप वहाबी आतंकियों का क़ब्रिस्तान बना सीरिया, 1114 शहर आज़ाद : रूस अरबईन बिलियन मार्च, दुश्मन को एक बार फिर हार का सामना : सय्यद मोहसिन अमेरिका ने दिया भारत को अल्टीमेटम, प्रतिबंधों से बचना है तो F-16 खरीदो कर्बला वाले और हमारी ज़िम्मेदारियां
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190839
Date of publication : 11/12/2017 16:2
Hit : 854

क्या आप जानते हैं अल्लाह ने शैतान को क्यों पैदा किया ?

इंसान को गुमराह करने और बहकाने में शैतान का रोल और भूमिका केवल यह है कि वह इंसानों को गुनाह की तरफ़ उकसाता और बहकाता है, वरना शैतान किसी को गुनाह करने पर ना ही मजबूर कर सकता है और ना ही इंसान के इरादों पर क़ब्ज़ा कर सकता है।


विलायत पोर्टल :  सबसे पहले यह कि अल्लाह ने शैतान को पाक फ़ितरत पैदा किया, लेकिन बाद में शैतान के अपने इरादे से गुमराही और शैतानी उस तक पहुँची। दूसरे यह कि ऐसे दुश्मन का होना इंसान के आगे बढ़ने और तरक़्क़ी करने में सहायता करेगा, अल्लाह के बंदे शैतान से मुक़ाबला कर के अपने आपको मज़बूत करते हैं, और मशहूर भी है कि कुश्ती के अखाड़े का असली पहलवान वही है जिसका प्रतिद्वंदी ताक़तवर हो। (तफ़सीरे नमूना, जिल्द 19, पेज 345-346) क्यों अल्लाह ने शैतान को धोखा देने और गुमराह करने में छूट दे दी? शैतान की आज़ादी, छल कपट करने, और धोखा देने में छूट का यह कारण है कि मोमिन बंदों को बेईमानों से अलग किया जा सके। (तफ़सीरे नमूना, जिल्द 18, पेज 74)
क्योंकि......
1. शैतान ने कई सदियों तक (6000 साल) अल्लाह की इबादत की, (दास्ताने शिगिफ़्त अंगेज़ी अज़ शैतान, हैदर क़ंबरी, पेज 19) और अल्लाह ने अपनी इबादत करने वालों को ईनाम देने का वादा किया है, जिस के कारण शैतान भी ईनाम का हक़दार हुआ, और उसने अपना ईनाम इंसान से दुश्मनी, घमंड, अकड़, और छल कपट करना धोखा देना चुन लिया है।
2. इंसान को गुमराह करने और बहकाने में शैतान का रोल और भूमिका केवल यह है कि वह इंसानों को गुनाह की तरफ़ उकसाता और बहकाता है, वरना शैतान किसी को गुनाह करने पर ना ही मजबूर कर सकता है और ना ही इंसान के इरादों पर क़ब्ज़ा कर सकता है।
3. इंसान ऐसे दुश्मन के सामने अक़्ल (बुध्दि), नबी और इमामों के मार्गदर्शन से लैस है।
4. इस तरह इंसान और शैतान के आमने सामने होने से इंसान और शैतान के बीच मुक़ाबले की शुरूआत हो जाती है।
5. इंसान का जन्म ना ही फ़रिश्तों के जैसा है और ना ही जानवरों के जैसा, बल्कि उसको आज़माने के लिए दोनों रास्ते उसको दिखा दिए गये हैं।
.................


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :