Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190519
Date of publication : 20/11/2017 17:2
Hit : 258

सऊदी शहज़ादों की रिहाई के लिए चल रही है सौदेबाज़ी : फाइनेंसियल टाइम्स

ऊदी सरकार और बंदी बनाये गए लोगों के बीच बातचीत सफल रहती है तो आले सऊद के खज़ाने में 300 अरब डॉलर आ सकते हैं जो आर्थिक संकट के कारण अपने सालाना बजट में 70 अरब डॉलर कम करने वाले आले सऊद के लिए राहत की बात होगी ।

विलायत पोर्टल :   प्राप्त जानकारी के अनुसार ब्रिटिश समाचार पत्र फाइनेंसियल टाइम्स ने रिपोर्ट दी है कि सऊदी अधिकारी बंदी बनाये गए सऊदी राजकुमारों और कारोबारियों से बातचीत कर रहे हैं ताकि वह बजट की समस्याओं से जूझ रही आले सऊद तानाशाही को अपनी दौलत का एक बड़ा भाग समर्पित करने के लिए मान जाएँ । फाइनेंसियल टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार उसके सूत्रों ने रिट्ज होटल में बंदी बनाए गए इन लोगों से मिलने वाले अधिकारियों का इंटरव्यू किया है जिसके अनुसार सऊदी अधिकारियों का कहना है कि इस बातचीत का उद्देश्य राजकुमार वलीद बिन तलाल , वलीद इब्राहीम , बकर बिन लादेन और अन्य दो कारोबारियों की रिहाई सुनिश्चित करना है । आले सऊद अधिकरियों के अनुसार बंदी बनाये गए कुछ लोगों ने अपनी रिहाई के बदले अपनी संपत्ति का 70% भाग सरकार के हवाले करने पेशकश की है । इस गोपनीय सूत्र के अनुसार अगर सऊदी सरकार और बंदी बनाये गए लोगों के बीच बातचीत सफल रहती है तो आले सऊद के खज़ाने में 300 अरब डॉलर आ सकते हैं जो आर्थिक संकट के कारण अपने सालाना बजट में 70 अरब डॉलर कम करने वाले आले सऊद के लिए राहत की बात होगी ।
........................
अलआलम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार ।