Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190502
Date of publication : 18/11/2017 16:4
Hit : 424

सअद हरीरी के सशर्त रिहाई , आले सऊद ने बच्चों को छोड़ने से किया इंकार ।

हरीरी के सऊदी अरब से निकलने के बाद शंका के बादल और गहरा गए हैं, क्योंकि फ़्रांसिसी मध्यस्थकारों को सऊदी अरब की किसी शर्त के बारे में नहीं बताया गया है उनके अनुसार सऊदी युवराज की ओर से सिर्फ इतना कहा गया है कि हरीरी खुद जानते हैं कि उन्हें क्या करना है ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार सऊदी अरब में बंधक बनाये गए लेबनानी प्रधानमंत्री को सऊदी अरब की नज़रबंदी से सशर्त रिहाई मिल गई है लेकिन आले सऊद ने अपनी नीच मानसिकता के अनुसार उनके बच्चों को सऊदी छोड़ने से रोकते हुए उन्हें बंधक बनाये रखा है । ज्ञात रहे कि हरीरी ने अपने इंटरव्यू में एक जुमला कहा था कि "मेरा परिवार है " जो इस बात को स्पष्ट कर देता है कि वह अपने परिवार को लेकर डरे हुए हैं । सऊदी अरब से पेरिस जाते हुए उनके साथ उनकी पत्नी लारा साथ थीं जबकि उनके दोनों बच्चों लोलू और अब्दुल अज़ीज़ को साथ ले जाने की अनुमति न देकर स्कूल के नाम पर रियाज़ में ही रोक लिया गया है । उनके बच्चों को रियाज़ में ही रोक लिया जाना इस बात का सूचक है कि उनकी रिहाई सशर्त है, लेबनान और सऊदी के बीच मध्यस्था कर रहे फ्रांसीसी अधिकारी ने जब यह खबर लेबनान के राष्ट्रपति मिशल औन को दी तो वह क्रोधित हो गए और कहा कि वह सअद हरीरी का परिवार उन्ही के साथ पेरिस होता हुआ लेबनान वापस आये । उन्होंने कहा कि अगर बुधवार तक हरीरी लेबनान नहीं आते तो पार्लियामेंट स्पीकर और अल मुस्तक़बिल पार्टी के साथ मिलकर लेबनान इस बार स्वतंत्रता दिवस नहीं मनाएगा । हरीरी के सऊदी अरब से निकलने के बाद शंका के बादल और गहरा गए हैं, क्योंकि फ़्रांसिसी मध्यस्थकारों को सऊदी अरब की किसी शर्त के बारे में नहीं बताया गया है उनके अनुसार सऊदी युवराज की ओर से सिर्फ इतना कहा गया है कि हरीरी खुद जानते हैं कि उन्हें क्या करना है । अल अख़बार के अनुसार पहले कहा गया था कि हरीरी शुक्रवार की रात फ़्रांस पहुँच जायेंगे शुक्रवार को एयरपोर्ट पर जमा पत्रकारों को वापस जाने के लिए कहते हुए कहा गया कि उनके आने में विलम्ब होगा अभी वह रियाज़ में ही हैं क्योंकि उन्हें सऊदी अरब के अय्याश युवराज से भेंट करने के लिए 7 घंटे तक इंतज़ार करना पड़ा । कुछ भी हो हरीरी की लेबनान वापसी निश्चित है लेकिन सवाल यह है कि उनकी आगे की रणनीति क्या होगी ? क्या वह इस्तीफ़ा देंगे या आले सऊद की नौकरी करते हुए हिज़्बुल्लाह को देश की राजनीति से दूर रख अपनी नज़रबंदी तथा इस संकट से निकलने का प्रयास करेंगे ।
.........................
फ़ार्स न्यूज़


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

दीन के बाक़ी रहने का राज़ अहलेबैत अ.स. की मोहब्बत में है अमेरिका ने लगाई गुहार, ईरान का मुक़ाबला करने के लिए एकजुट हों अरब देश ईरान को छोड़ो सऊदी अरब की लगाम कसना बहुत ज़रूरी : रैंड पॉल इराक की धरती को ईरान के हितों को चोट पहुँचाने के लिए भी प्रयोग नहीं होने देंगे : बरहम सालेह दमिश्क़, आम लोगों पर मौत बनकर बरसे अमेरिकी विमान, 40 से अधिक की मौत। इस्राईल का भविष्य दांव पर, अकेले कई अरब देशों को हराना वाला अवैध राष्ट्र आज हमास से नहीं जीत सकता : ज़ायोनी सैन्याधिकारी ट्रम्प की एक और हार, अदालत ने दिया सीएनएन पत्रकार का पास जारी करने का आदेश ट्रम्प, बिन सलमान, और नेतन्याहू के शैतानी त्रिकोण को संकट का सामना : हिज़्बुल्लाह आईएसआईएस इस्लाम का प्रतीक नहीं, हरमैन शरीफ़ैन के साथ विश्वासघात कर रहे हैं आले सऊद सऊदी के बाद आर्थिक मदद मांगने संयुक्त अरब अमीरात जाएंगे इमरान खान ख़ाशुक़जी का सर काट कर रियाज़ ले गए थे सऊदी हत्यारे । बस एक साल, और हिज़्बुल्लाह की तरह शक्तिशाली होगा हमास : लिबरमैन इस्राईल को दमिश्क़ का कड़ा संदेश, जौलान सीरिया का है और हम जानते हैं उसे कैसे लेना है । इमाम हसन असकरी अ.स. की ज़िंदगी पर एक निगाह अमेरिका का युग बीत गया, पश्चिम एशिया से विदाई की तैयारी कर ले : मेजर जनरल मूसवी