Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190473
Date of publication : 15/11/2017 17:1
Hit : 696

नजफ़ - कर्बला बिलियन मार्च, शिया शक्ति और आपसी एकजुटता का प्रतीक : इंडिपेंडेंट

इन 20 दिनों में इराक के शहर और गांव के गांव खाली हो जाते हैं क्योंकि यहां के लोग इमाम की बारगाह में हाज़िरी देने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की सेवा करने या इमाम की ज़ियारत के लिए निकल चुके होते हैं ।

विलायत पोर्टल : प्राप्त जानकारी के अनुसार ब्रिटिश समाचार पत्र इंडिपेंडेंट ने इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के चेहलुम के अवसर पर होने वाले नजफ़ - कर्बला मार्च को शिया शक्ति और आपसी भाईचारे और एकजुटता का प्रतीक बताते हुए कहा है कि यह महान हुजूम और यह मार्च शिया शक्ति का प्रतीक बन गया है । पैट्रिक कॉकबर्न ने इंडिपेंडेंट के लिए लिखे अपने लेख में कहा कि चेहलुम के अवसर पर दुनिया भर से करोड़ों लोग काले कपडे पहन कर कर्बला में उपस्थित हुए यह दुनिया का सबसे बड़ा मजमा था जो कर्बला में एक धार्मिक प्रोग्राम में हिस्सा लेने के लिए उपस्थित हुआ । उन्होंने कहा कि 50 मील से भी अधिक दूरी तक सड़क के दोनों ओर लगे तंबूओं में मेहमानों की आवभगत और रहने के प्रबंध के साथ होना वाला यह मार्च शिया शांति और आपसी सौहार्द का प्रतीक बन गया है । बसरा या किरकुक से आने वाले श्रद्धालु 10-10 तो कुछ 12-12 दिन पैदल चल कर अपने मौला की बारगाह मे सलामी देने के लिए चले आते हैं । एक समय था जब सद्दाम के डर के कारण यहाँ के लोग सुनसान रास्तों से चल कर कर्बला आते थे लेकिन आज हज़ारों जवानों की क़ुर्बानी देने तथा सद्दाम और दाइश जैसे खूंखार आतंकी संगठन के पतन के बाद जो यहाँ की शिया प्रभाव वाली सरकार के पतन का सपना लेकर उठे थे, करोड़ों लोग इमाम की बारगाह में हाज़िरी देने आते हैं । नजफ़ - कर्बला के रास्ते में ज़ाएरीन की सेवा के लिए कैंप लगाने वाले एक कबीले के सरदार करीम के अनुसार हम सद्दाम के समय में छुप छुप कर फरात नदी के किनारों से होकर यह मार्च करते थे क्योंकि सद्दाम का भय था, अगर उसे खबर हो जाती थी तो वह लोगों को बंदी बना लेता था या शहीद कर देता था । पैट्रिक कॉकबर्न के अनुसार इन 20 दिनों में इराक के शहर और गांव के गांव खाली हो जाते हैं क्योंकि यहां के लोग इमाम की बारगाह में हाज़िरी देने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की सेवा करने या इमाम की ज़ियारत के लिए निकल चुके होते हैं ।
...........
इरना


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....