Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190472
Date of publication : 15/11/2017 16:25
Hit : 665

यमन जनांदोलन के पीछे आईआरजीसी बल होता तो आले सऊद का नामो निशान मिट जाता : ब्रिटिश विश्लेषक

यह सिर्फ सऊदी अरब के भय और डर को दर्शाता है , इस में कोई वास्तविकता नहीं है ।

विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार ब्रिटिश विश्लेषक तथा यमन मामलों की जानकर कैथरीन का कहना है कि सऊदी अरब के दावों के अनुरूप अगर यमन जनांदोलन अंसारुल्लाह के पीछे ईरान की सिपाहे पासदारने इंक़ेलाब {आईआरजीसी } का सैन्य सहयोग होता तो आज आले सऊद का नामो निशान मिट चुका होता । उन्होंने कहा कि यमन के भू-राजनीतिक महत्त्व को देखते हुए यह देश काफी महत्वपूर्ण हो गया है सब जानते हैं कि जो देश वर्तमान मे यमन को अपने नियंत्रण में ले सकता है वह पूरे अफ्रीका , एशिया , और मिडिल ईस्ट को नियंत्रित कर सकता है । आले सऊद यमन को अपने अधीन लेकर यहाँ पाइप लाइन बिछा कर ईरान के हुर्मुज़ जलडमरू मध्य के महत्त्व को कम करना चाहते हैं । कैथरीन ने कहा कि आले सऊद का यह कहना कि रियाज़ एयरपोर्ट पर दाग़े गई मिसाइल ईरान ने अंसारुल्लाह को दिए थे यह सिर्फ सऊदी अरब के भय और डर को दर्शाता है , इस में कोई वास्तविकता नहीं है । ईरान और आईआरजीसी बल की वहां कोई सैन्य उपस्थिति नहीं है उन्होने सैन्य क्षेत्र में कोई काम नहीं किया है । अगर ईरान और आईआरजीसी बल यमन सेना और अंसारुल्लाह आंदोलन की समर्थन करते तो अब तक यमन युद्ध समाप्त हो चुका होता और आले सऊद का खेल ख़त्म हो चुका होता ।
...........................
 तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से