Saturday - 2018 Sep 22
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190447
Date of publication : 14/11/2017 16:33
Hit : 286

म्यांमार सेना ने काले करतूतों मे दाइश को पीछे छोड़ा : गैब्रियल

म्यांमार सेना रोहिंग्या समुदाय के नवजात शिशु को भी बड़ी निर्दयता से मौत की घाट उतारती रही है यह ऐसा जघन्य अपराध है जिसके बारे में मैंने आज तक नहीं सुना ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार इंग्लिश न्यूज़ पेपर एक्स्प्रेस के अनुसार वहाबी आतंकी संगठन दाइश के अत्याचारों पर स्टोरी करने वाले ब्रिटिश फिल्म निर्माता और संवाददाता गेब्रियल गेट्स होस का कहना है कि मैंने सीरिया और इराक में दाइश पर काफी स्टोरियां की हैं लेकिन मेरे अनुसार दाइश के अत्याचारों की तुलना मे म्यांमार सेना के अपराध अधिक संगीन है। म्यांमार सेना रोहिंग्या समुदाय के नवजात शिशु को भी बड़ी निर्दयता से मौत की घाट उतारती रही है यह ऐसा जघन्य अपराध है जिसके बारे में मैंने आज तक नहीं सुना । मैं जब एक बस्ती में अपनी रिपोर्ट तैयार कर रहा था तो मुझे रोहिंग्या समुदाय के विरुद्ध म्यांमार सेना के कई जघन्य अपराधों के बारे में पता चला यह ऐसे अपराध थे जिनके बारे में ब्रिटिश प्रधानमंत्री को भी कहना पड़ा कि रोहिंग्या समुदाय के विरुद्ध जातीय सफाये की मुहिम चलायी जा रही है । ज्ञात रहे कि म्यांमार सेना ने बौद्ध आतंकियों कि साथ मिलकर 25 अगस्त को रोहिंग्या समुदाय कि विरुद्ध सुनियोजित तरीके से जातीय सफाये का अभियान छेड़ते हुए उनके गांव के गांव में आग लगा दी । रोहिंग्या समुदाय को हिंसा के साथ साथ उनकी औरतों को यौन हिंसा का शिकार बनाया गया जिस कारण हज़ारों लोग मारे गए तथा 9 लाख से अधिक लोगों ने भाग कर बांग्लादेश में पनाह ली ।
..........................
 YJC


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :