Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 190423
Date of publication : 13/11/2017 16:42
Hit : 971

कर्बला मे उमड़ा करोड़ों का हुजूम, अल्लाह की राह में तन मन की बाज़ी लगाने का प्रतीक , शुक्रिया इराक : आयतुल्लाह ख़ामेनई

आतंकवाद जैसी गंभीर चुनौती को धता बताते हुए यह करोड़ों का हुजूम इस बात का प्रतीक है कि लोगों में प्रतिरोध और अल्लाह की राह में क़ुर्बानी देने का जज़्बा बढ़ रहा है ।

विलायत पोर्टल :
प्राप्त जानकारी के अनुसार इस्लामी क्रांति के सुप्रीम लीडर हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई ने क़ुम और आज़रबैजान प्रान्त के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मुलाक़ात करते हुए इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के चेहलुम के अवसर पर करोड़ों ज़ाएरीन की करिश्माई उपस्थिति ओर शांतिपूर्ण मार्च पर इराकी जनता, सरकार और अधिकारियों और इस प्रोग्राम को सफल बनाने में योगदान देने वालों की प्रशंसा करते हुए ज़ाएरीन के आमाल और ज़ियारत क़ुबूल होने की दुआ की । हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई ने कहा कि चेहलुम के अवसर पर उमड़ा यह करोड़ों का हुजूम इस बात का सूचक है कि लोगों में अल्लाह की राह में तन, मन, धन से अपना सब कुछ लुटाने तथा शहादत का जज़्बा दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है । उन्होंने कहा कि आतंकवाद जैसी गंभीर चुनौती को धता बताते हुए यह करोड़ों का हुजूम इस बात का प्रतीक है कि लोगों में प्रतिरोध और अल्लाह की राह में क़ुर्बानी देने का जज़्बा बढ़ रहा है । आयतुल्लाह ख़ामेनई ने चेहलुम के अवसर पर आई श्रद्दालुओं की संख्या को अभूतपूर्व बताते हुए कहा कि इस अवसर पर तमाम सुविधाओं का बंदोबस्त करने पर इराक सरकार तथा श्रद्धालुओं का खुले दिल से आदर सत्कार करने के लिए इराकी जनता तथा ज़ाएरीन की सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए हश्दुश शअबी तथा सुरक्षबलों और इस महान अवसर पर योगदान देने वाले हर व्यक्ति का बहुत बहुत शुक्रिया ।
.....................
 फ़ार्स न्यूज़


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....