Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 189505
Date of publication : 10/9/2017 15:44
Hit : 702

ईरानी जल सेना ने अमेरिकी युद्धपोत को दी चेतावनी ।

ईरान जल सेना ने अमेरिकी युद्धपोत को कड़ी चेतावनी दी जिसे सुन कर अमेरिकी युद्धपोत ने क्षेत्र से निकलने में ही अपनी भलाई समझी ।


विलायत पोर्टल :  प्राप्त जानकारी के अनुसार ईरान जलसेना ने अमेरिकी युद्धपोत को अपनी जल सीमा से दूर ही दूर रहने की चेतावी दी है । सूत्रों के अनुसार ईरानी मछुआरों की एक लांच जासिक बन्दरगाह से 45 मील दूर किसी कारणवश ख़राब हो गई काफी कोशिशों के बाद थक हार कर नाविकों ने ईरान जल सेना से मदद मांगी । ईरान जल सेना ने उक्त लांच की सहायतार्थ अपना राकेट लांचर कैर्रिएर रवाना किया । राकेट लांचर कैर्रिएर के उक्त लांच तक पहुंचने से पहले ही अमेरिकी युद्धपोत O2 शम्स नामक इस लांच के निकट हो रहा था जिसे देख कर ईरान जल सेना ने अमेरिकी युद्धपोत को कड़ी चेतावनी दी जिसे सुन कर अमेरिकी युद्धपोत ने क्षेत्र से निकलने में ही अपनी भलाई समझी ।
.......................
   तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी हिज़्बुल्लाह के साथ खड़ा है लेबनान का क्रिश्चियन समाज : इलियास मुर्र ओमान के आसमान में उड़ान भरेंगे इस्राईल के विमान ज़ायोनी आतंक, पोस्टर लगा कर दी फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति की हत्या की सुपारी । महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में ईरान पर कोई प्रभाव नहीं ड़ाल पाएंगे अमेरिकी प्रतिबंध : स्ट्रैटफोर सऊदी हमलों की मार झेल रहे यमन में 2 करोड़ लोग भूख से प्रभावित,लाखों बच्चों की मौत अवैध राष्ट्र के गठन के 30 साल पहले से ज़ायोनी मूवमेंट के लिए काम कर रहे हैं आले सऊद : इस्राईली सांसद स्नूकर प्लेयर ने इस्राईली खिलाड़ी के साथ खेलने से किया इंकार हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे