Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188353
Date of publication : 13/7/2017 16:51
Hit : 2289

छह हजार अरब डॉलर खर्च कर के भी ईरान का कुछ नहीं बिगाड़ पाया अमेरिका ।

ईरान - इराक युद्ध के दूसरे साल ही अमेरिका ने खुल कर इराक को समर्थन देने का ऐलान किया और उसके मिसाइल तेहरान और अन्य शहरों को निशाना बनाते रहे ।

विलायत पोर्टल :
आईआरजीसी के क़ुद्स ब्रिगेड के उपप्रमुख इस्माईल ने कहा है कि अमेरिका छह हजार अरब डॉलर खर्च करने के बाद भी ईरान का कुछ नहीं बिगाड़ पाया है। उन्होंने कहा कि ईरान में वीरों की कमी नहीं है जो बिना किसी लालच के अपने मान सम्मान तथा देश के गौरव के लिए अपनी जान की बाज़ी लगाने को तैयार हैं । उन्होंने कहा कि ईरान के शत्रु कोई छोटे मोटे देश नहीं हैं बल्कि उनका मुखिया अमेरिका तथा इस्राईल रहा है । उन्होंने कहा कि अमेरिका ने अपने किराये के एजेंटों को ईरान के विरुद्ध युद्ध की आग भड़काने का आदेश दिया लेकिन हमारा राष्ट्र अल्लाह की मेहरबानी से अपनी सरहदों से हज़ारों किलोमीटर दूर दुश्मनों के मंसूबे खाक में मिला रहा है । इस्माईल ने कहा कि ईरान - इराक युद्ध के दूसरे साल ही अमेरिका ने खुल कर इराक को समर्थन देने का ऐलान किया और उसके मिसाइल तेहरान और अन्य शहरों को निशाना बनाते रहे । अमेरिका ने ११ सितम्बर के कांड का बहाना बनाकर अफ़्ग़ानिस्तान पर हमला किया ताकि वहां से ईरान को आसानी से निशाना बनाया जा सके लेकिन जब इस उद्देश्य में भी असफल रहा तो सीरिया और इराक को अपनी बर्बरता का निशाना बनाया । उन्होंने कहा कि ईरान को निशाना बनाने के उद्देश्य से अमेरिका ने इराक और अफगानिस्तान में ६ हज़ार अरब डॉलर खर्च किये लेकिन उसे अपने उद्देश्यों में सफलता नहीं मिली ।
 ..............
 फानूस


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....