Saturday - 2018 Sep 22
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188255
Date of publication : 8/7/2017 16:4
Hit : 359

९/११ हमलों में सऊदी अरब की भूमिका का भांडा फूटा ।

सीआईए से अपील करें कि वह पिछले पांच सालों में सऊदी अरब के डिप्लोमेटिक पासपोर्ट पर अमेरिकी यात्रा करने वालों का ब्यौरा जारी करें । इन लोगों के विरुद्ध आतंकी गतिविधियों में लिप्त होने के साक्ष्य भी सीआईए के पास मौजूद हैं ।


विलायत पोर्टल :
  प्राप्त जानकारी के अनुसार अमेरिका में क़तर के राजदूत ने अमेरिकी सीनेटर जॉन कोर्निन से भेंट करते हुए कहा है ९/११ कांड में सऊदी नागरिकों के साथ साथ सऊदी दूतावास की भूमिका भी संदिग्ध है । वह अप्रत्यक्ष रूप से इन हमलों की साज़िश में सम्मिलित था । सऊदी अरब अन्य देशों में कट्टरवादी विचारधारा के प्रचार प्रसार में व्यस्त है वह क़तर पर आतंकवाद समर्थन का आरोप लगा कर अपने आप को बचाने का असफल प्रयास कर रहा है । उन्होंने कहा कि रियाज़ क़तर पर आरोप मढ़ कर अमेरिकी क़ानून जास्ता { जस्टिस अगेंस्ट स्पोंसर्स ऑफ़ टेररिज्म एक्ट "Justice Against Sponsors of Terrorism Act } के महत्त्व को कम करना चाह रहा है । जब सऊदी अरब जास्ता की मार से बच न सका तो उसने ईरान को भी इस की लपेट मे लेना चाहा लेकिन वहां से मुंह की खाने के बाद वह क़तर को इस की चपेट में लेने का प्रयास कर रहा है । मै मीडिया से अपील करता हूँ कि वह सीआईए से अपील करें कि वह पिछले पांच सालों में सऊदी अरब के डिप्लोमेटिक पासपोर्ट पर अमेरिकी यात्रा करने वालों का ब्यौरा जारी करें । इन लोगों के विरुद्ध आतंकी गतिविधियों में लिप्त होने के साक्ष्य भी सीआईए के पास मौजूद हैं । क़तर राजदूत ने कहा कि सऊदी रियाल और तेल की अकूत संपत्ति के लोभ में अमेरिका में सऊदी अरब के राजनैतिक पासपोर्ट पर यात्रा कर यहाँ आतंकी गतिविधियों में लिप्त होने वालों के नाम फाश नहीं किये जा रहे हैं ।
..................
IuvmPress


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :