Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188251
Date of publication : 8/7/2017 15:5
Hit : 227

बेशर्मी पर उतरी आले खलीफा सरकार, आयतुल्लाह शैख़ क़ासिम के घर के निकट औरतों पर हमला ।

यह महिलाएं सरकारी अत्याचारों का शिकार शैख़ ईसा क़ासिम के परिवार का हालचाल लेने जा रही थी ।


विलायत पोर्टल :
  प्राप्त जानकारी के अनुसार बहरैन तानाशाही ने बेशर्मी की सारी सीमायें लांघते हुए नज़रबंद किये गए देश के आध्यात्मिक पेशवा आयतुल्लाह शैख़ ईसा क़ासिम के घर जा रही महिलाओं पर बर्बर हमला किया । सूत्रों के अनुसार यह महिलाएं सरकारी अत्याचारों का शिकार शैख़ ईसा क़ासिम के परिवार का हालचाल लेने जा रही थी । याद रहे कि शैख़ ईसा क़ासिम एक लम्बे समय से बहरैनी तानाशाही की नज़रबंदी में जीवन व्यतीत कर रहें हैं लेकिन अभी तक उनकी कोई खैर खबर नही है। बहरैन वासी एक मुद्दत से बहरैन तानाशाही के अत्याचारों से पीड़ित हैं, खलीफाई सैनिक शैख़ ईसा क़ासिम के घर के बाहर एकत्रित लोगों से कठोरता से पेश आ रही है तथा शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर अत्याचार ढा रही है।
..................
 फानूस


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

आयतुल्लाह फ़ाज़िल लंकरानी र.ह. की ज़िंदगी पर एक निगाह इदलिब, दमिश्क़ ने आतंकी संगठनों के खिलाफ सैन्य अभियान शुरू किया सऊदी अरब के साथ अपने संबंधों पर फिर विचार करे अमेरिका : बर्नी सैंडर्स आंग सान सू ची के साथ बराक ओबामा से भी छीना जाए नोबेल शांति पुरस्कार इस्राईल इस एक रॉकेट के कारण हथियार डालने पर हुआ मजबूर सीरिया और इराक के बाद ताजिकस्तान पर आईएसआईएस का संकट मंडलाया अफ़ग़ानिस्तान, एक महीने में आतंकियों ने 250 से अधिक फौजियों को मारा इदलिब में जंग की आहट, आतंकवादी संगठनों को उकसा रहा है अमेरिका यमन सेना का पलटवार, आले सऊद के 15 आतंकी हलाक बिन सलमान की उल्टी गिनती शुरू, सत्ता से जल्दी ही हो सकती है विदाई ईरान अमेरिका के सैन्य ढांचे को ध्वस्त करने में सक्षम, चीन और रूस की बढ़ती ताक़त से दहशत में वाशिंगटन : न्यूज़वीक दीन के बाक़ी रहने का राज़ अहलेबैत अ.स. की मोहब्बत में है अमेरिका ने लगाई गुहार, ईरान का मुक़ाबला करने के लिए एकजुट हों अरब देश ईरान को छोड़ो सऊदी अरब की लगाम कसना बहुत ज़रूरी : रैंड पॉल इराक की धरती को ईरान के हितों को चोट पहुँचाने के लिए भी प्रयोग नहीं होने देंगे : बरहम सालेह