Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188232
Date of publication : 6/7/2017 16:37
Hit : 241

हिलेरी के मेल से हुआ लीबिया पर आक्रमण और क़ज़्ज़ाफ़ी की हत्या का पर्दाफ़ाश ।

लीबिया के तेल भंडारों पर कब्ज़ा, क्षेत्र में फ़्रांस के प्रभाव और दबदबा बनाये रखना, देश में सरकोज़ी की धूमिल होती छवि को बचाना , अफ्रीकी देशों विशेष कर फ्रेंच भाषा बोलने वाले देशों में लीबिया और क़ज़्ज़ाफ़ी के बढ़ते प्रभाव को रोकना ।

विलायत पोर्टल :
प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्व अमेरिकी विदेशमंत्री के लीक हुए ईमेल ने बहुत से रहस्यों से पर्दा उठाया है । इन्ही में एक रहस्य है कि नाटो ने लीबिया पर हमला क्यों किया ? वहां के शासक मुअम्मर क़ज़्ज़ाफ़ी की हत्या क्यों की गयी ? प्रतिष्ठित पत्रिका फॉरेन पॉलिसी के अनुसार लीबिया पर हमलों का नेतृत्व कर रहे तत्कालीन फ़्रांसिसी राष्ट्रपति निकोलस सरकोज़ी के उद्देशयों को बताते इस मेल के शब्द यह हैं - लीबिया के तेल भंडारों पर कब्ज़ा, क्षेत्र में फ़्रांस के प्रभाव और दबदबा बनाये रखना, देश में सरकोज़ी की धूमिल होती छवि को बचाना , अफ्रीकी देशों विशेष कर फ्रेंच भाषा बोलने वाले देशों में लीबिया और क़ज़्ज़ाफ़ी के बढ़ते प्रभाव को रोकना । इस मेल में क़ज़्ज़ाफ़ी के १४३ टन सोने और इतनी ही चाँदी के खतरे के बारे में बताया गया है कि यह अकूत संपत्ति अफ्रीका की अपनी नयी करेंसी ढ़ालने के लिए थी जिसे पूरे अफ्रीका में फ्रेंच करेंसी की जगह लेनी थी। उन्ही दिनों एक फ़्रांसिसी समाचार पत्र ने लिखा था कि जब फ़्रांस सरकार को इस बात का यक़ीन हो गया कि लीबिया अफ्रीका के लिए सोने के सिक्कों की शक्ल में नई करेंसी शुरू करने के लिए प्रतिबद्ध हैं तो फ़्रांस ने लीबिया पर हमला करने का निर्णय ले लिया ।
.....................
अलआलम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....