Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188198
Date of publication : 5/7/2017 15:36
Hit : 482

सऊदी अरब में विद्रोह की आशंका, G २० सम्मलेन में भाग नहीं लेगा सऊदी शाह ।

सऊदी शाह को आशंका है कि उनके देश से निकलते ही सेना जैसी शक्ति रखने वाले नेशनल गार्ड के प्रमुख मुतअब उन्हें किनारे लगाकर अपने बेटे को युवराज घोषित कर सकते हैं ।

विलायत पोर्टल : 
खाड़ी देशों के सूत्रों के अनुसार नेशनल गार्ड के संभावित विद्रोह के डर से सऊदी शासक और उसके बेटे मौहम्मद बिन सलमान ने G २० बैठक में भाग लेने का कार्यक्रम टाल दिया है । सूत्रों का कहना है कि नॅशनल गार्ड प्रमुख मुतअब बिन अब्दुल्लाह के विद्रोह से सहमे सऊदी शाह और मौहम्मद बिन सलमान ने जर्मनी के हैम्बर्ग में होने वाले G २० सम्मलेन में भाग लेने के अपने कार्यक्रम को अंतिम क्षणों में टाल दिया है । इस से पहले जर्मन सरकार के प्रवक्ता ने सलमान और उनके बेटे के इस कार्यक्रम में भाग लेने की पुष्टि की थी। इस सम्मलेन में सऊदी शाह और उसके उत्तराधिकारी द्वारा भाग न लेने पर सऊदी मीडिया में कहा जा रहा है कि क़तर संकट को देखते हुए वह इस सम्मलेन में भाग नहीं ले रहे हैं लेकिन जानकारों का कहना है कि सऊदी शाह नेशनल गार्ड प्रमुख से भयभीत है। ज्ञात रहे कि नेशनल गार्ड में तैनात सैनिकों की संख्या १५० हज़ार से अधिक है जो सब अलग अलग क़बायल से हैं । नेशनल गार्ड मुतअब बिन अब्दुल्लाह के अधीन तथा उनके वफादार हैं । सऊदी शाह को आशंका है कि उनके देश से निकलते ही सेना जैसी शक्ति रखने वाले नेशनल गार्ड के प्रमुख मुतअब उन्हें किनारे लगाकर अपने बेटे को युवराज घोषित कर सकते हैं । नेशनल गार्ड में उच्च पदों पर अधिकतर किनारे लगा दिये गये वह शहज़ादे असीन हैं जो सऊदी सत्ता के संस्थापक की नस्ल से नहीं हैं बल्कि उनके ख़ानदान और रिश्तेदारों में से हैं । मौहम्मद बिन नायफ की तरह सऊदी युवराज आसानी से उनको अपने रास्ते से भी नहीं हटा सकता क्यूंकि यह सब के सब मुतअब के वफादार हैं ।
..........
ISNA


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....