Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187992
Date of publication : 22/6/2017 14:34
Hit : 350

५० लाख से अधिक इराकी बच्चों को शीघ्र सहायता की आवश्यकता : यूनिसेफ

यूनिसेफ के दूत पीटर हॉकिन्स ने कहा है कि हमारे पास चिंतित कर देने वाले आंकड़े हैं जिस में मूसेल में आम नागरिकों की चिंताजनक स्थिति और उनके जनसंहार तथा इस शहर से निकलने के प्रयासों में मिलने वाली घोर यातनाओं का उल्लेख है ।


विलायत पोर्टल :
  बाल अधिकारों के लिए काम करने वाली संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था यूनिसेफ ने कहा है कि 50 लाख से अधिक इराकी बच्चों को तत्काल मानवीय सहायता की आवश्यकता है । यूनिसेफ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि समस्त इराक में बच्चों की हालत बहुत दयनीय है । वह आतंकवादी संगठन दाइश के अत्याचारों की भेंट चढ़ रहे हैं उन्हें कायरता पूर्वक मारा जा रहा है तथा इन ५० लाख बच्चों में गंभीर रूप से घायल, मानसिक रूप से परेशान तथा पीड़ित बच्चे शामिल हैं । इस रिपोर्ट में कहा गया है कि मूसेल में वहाबी आतंकवादी संगठन दाइश ने बच्चों पर अत्याचारों के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं । यहाँ लोगों को शहर से बाहर जाने से रोकने के लिए तथा उन्हें दण्डित करने के लिए बच्चों को नाना प्रकार के अत्याचारों का निशाना बनाया जाता है । इराक में यूनिसेफ के दूत पीटर हॉकिन्स ने कहा है कि हमारे पास चिंतित कर देने वाले आंकड़े हैं जिस में मूसेल में आम नागरिकों की चिंताजनक स्थिति और उनके जनसंहार तथा इस शहर से निकलने के प्रयासों में मिलने वाली घोर यातनाओं का उल्लेख है ।
 ............
 तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे फ़्रांस के दो लाख यहूदी नागरिकों को स्वीकार करेगा अवैध राष्ट्र इस्राईल इस्राईल का चप्पा चप्पा हमारी की मिसाइलों के निशाने पर : हिज़्बुल्लाह जौलान हाइट्स से लेकर अल जलील तक इस्राईल का काल बन गई है नौजबा मूवमेंट । हम न होते तो फ़ारसी बोलते आले सऊद, अमेरिका के बिना सऊदी अरब कुछ नहीं : लिंडसे ग्राहम आले सऊद की बेशर्मी, लापता हाजी सऊदी जेलों में मौजूद ट्रम्प पर मंडला रहा है महाभियोग और जेल जाने का ख़तरा । जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई